प्रतियोगी परीक्षा के लिए अब नहीं देनी होगी कोई फीस, विशेष कनिष्ठ कर्मचारी चयन बोर्ड की परीक्षाएं होंगी नि:शुल्क

765

प्रतियोगी परीक्षा के लिए अब नहीं देनी होगी कोई फीस, विशेष कनिष्ठ कर्मचारी चयन बोर्ड की परीक्षाएं होंगी नि:शुल्क

रायपुर @ खबर बस्तर। प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छत्‍तीसगढ़ के युवाओं के लिए खुशखबरी है। विशेष कनिष्ठ कर्मचारी चयन बोर्ड द्वारा ली जाने वाली परीक्षा में अब उम्मीदवारों को कोई शुल्क नहीं देना होगा।

सीएम भूपेश बघेल ने युवाओं को बड़ी राहत देते हुए विशेष कनिष्ठ कर्मचारी चयन बोर्ड की परीक्षा का शुल्क माफ करने की घोषणा की है। इससे पहले मुख्यमंत्री ने पीएससी और व्यापमं की परीक्षाओं में भी शुल्क माफ करने का ऐलान किया था।

यह भी पढ़ें :  ग्रामीणों ने किया तहसील कार्यालय का घेराव, 19 सूत्रीय मांगों को लेकर किया जमकर प्रदर्शन

सीएम बघेल की घोषणा के बाद अब प्रदेश में विशेष कनिष्ठ कर्मचारी चयन बोर्ड की ओर से आयोजित परीक्षा में प्रतिभागियों से शुल्‍क नहीं लिया जाएगा।

बताया जा रहा है कि कांग्रेस के आनुषांगिक संगठन NSUI ने सीएम भूपेश बघेल से कनिष्ठ कर्मचारी चयन बोर्ड की परीक्षाओं में शुल्क माफी करने की मांग की थी। उसके बाद मुख्यमंत्री ने मंगलवार को इसकी घोषणा कर दी।

बता दें कि बस्तर और सरगुजा संभाग में विशेष कनिष्ठ कर्मचारी चयन बोर्ड का गठन किया गया है। बोर्ड द्वारा तृतीय और चतुर्थ श्रेणी के पदों पर भर्ती के लिए स्थानीय युवाओं की परीक्षा आयोजित की जाती है।

यह भी पढ़ें :  सिर पर गोली लगी पर अंतिम सांस तक नक्सलियों से लड़ता रहा नारायण... चाचा और भाई समेत पूरे कुनबे ने छेड़ रखी है माओवाद के खिलाफ जंग

नए आदेश के बाद यह परीक्षा शुल्क बंद हो जाएगा। परीक्षा का आयोजन सरकार पूरी तरह अपने खर्च पर कराएगी। इसके साथ ही यह तय हो गया है कि छत्तीसगढ़ में राज्य सरकार की नौकरियों के लिए युवाओं को कोई परीक्षा शुल्क नहीं देना होगा।

राज्य लोक सेवा आयोग और व्यापम हर साल दर्जन भर से अधिक प्रतियाेगी परीक्षाएं आयोजित करते हैं। इन परीक्षाओं के संचालन के लिए संस्थाएं प्रत्येक आवेदन पर 200 रुपए से 500 रुपए तक का शुल्क लेती रही हैं। आरक्षित वर्गों के लिए आवेदन शुल्क में कुछ छूट होती है। ओबीसी और सामान्य वर्ग को पूरा शुल्क अदा करना पड़ता था।

यह भी पढ़ें :  बस्तर में होगी भाजयुमो की ज़िला स्तरीय वर्चुअल रैली, तैयारियों को लेकर कार्यकर्ताओं ने की बैठक