शिक्षक को ब्लैक फंगस की पुष्टि, गांव पहुंची मेडिकल टीम… अस्पताल में भर्ती शिक्षक ने Video जारी कर आर्थिक मदद की लगाई गुहार

58

शिक्षक को ब्लैक फंगस की पुष्टि, गांव पहुंची मेडिकल टीम… अस्पताल में भर्ती शिक्षक ने Video जारी कर आर्थिक मदद की लगाई गुहार

पंकज दाउद @ बीजापुर। भोपालपटनम ब्लाॅक के लिंगापुर में पदस्थ शिक्षक मोरला किस्टैया को ब्लैक फंगस होने की पुष्टि हो गई है। इसके बाद रविवार को यहां से मेडिकल टीम उनके गांव वरदल्ली पहुंची और आसपास के लोगों के कोरोना के सेंपल लिए गए। आसपास के लोगों में ब्लैक फंगस के लक्षण नहीं दिखाई दिए।

– हैदराबाद में भर्ती मोरला किस्टैया।

सूत्रों के मुताबिक मेडिकल टीम ने वरदल्ली में उनकी पत्नी और बच्चों के अलावा आसपास के लोगों के काविड के सेंपल लिए। एंटीजन में सभी सेंपल निगेटिव पाए गए। आरटीपीसीआर एवं ट्रू नैट के लिए भी सेंपल लिए गए हैं।

यह भी पढ़ें :  सड़क खोद नक्सलियों ने मचाई थी तबाही, 12 साल बाद जवानों की मदद से शुरू हुआ आवागमन

मेडिकल टीम ने आसपास के लोगों से ब्लैक फंगस की शिकायत के बारे में पूछा गया। किसी में भी इसके लक्षण नहीं पाए गए।

ब्लैक फंगस की चपेट में आए लिंगापुर प्राथमिक शाला के शिक्षक मोरला किस्टैया ने अस्पताल से इलाज के लिए क्षेत्र के लोगों से माली मदद की गुहार लगाई है। अभी उनका इलाज टीएक्स हाॅस्पिटल काचीगुड़ा हैदराबाद में चल रहा है।

– हाॅस्पिटल में मिली रिपोर्ट।

सूत्रों के मुताबिक रिपोर्ट आने पर 28 जुलाई को उन्हें ब्लैक फंगस होने की पुष्टि हुई। उनके इलाज पर रोजाना करीब 70 हजार रूपए का खर्च आ रहा है। अब तक 7 लाख खर्च हो गए हैं क्योंकि जगदलपुर और वारंगल में भी उनका उपचार हुआ।

यह भी पढ़ें :  नक्सलियों में भी अब कोरोना की दहशत, बैनर में लिखा- कोरोना का संक्रमण रोकने जवानों को दूर भगाओ... ग्रामीणों से की ये अपील !

Read More:

 

मोरला किस्टैया ने हाॅस्पिटल से एक वीडियो जारी किया है और क्षेत्र के लोगों व व्यापारियों से मदद की गुहार लगाई है। उनके साथ उनके भाई नरसिंह मोरला भी हैदराबाद में हैं।

हालांकि, कांग्रेस के ब्लाॅक उपाध्यक्ष केजी सत्यम ने लोगों से आर्थिक सहायता के लिए अपील की है। इसका असर भी देखने को मिला है। लोग अपनी क्षमता अनुसार मोरला किस्टैया के एसबीआई भोपालपटनम के खाते में पैसे भेजने लगे हैं।

यह भी पढ़ें :  नक्सल प्रभावित इलाकों के युवाओं को CRPF दे रही ड्राइविंग की ट्रेनिंग, विरोधी विचारधारा के खात्मे का एक तरीका ये भी