इंद्रावती नदी में डूबे शिक्षक का तीसरे दिन मिला शव… पिकनिक मनाने गए थे, लौटकर आई ये बुरी खबर!

170

इंद्रावती नदी में डूबे शिक्षक का तीसरे दिन मिला शव… पिकनिक मनाने गए थे, लौटकर आई ये बुरी खबर!

दंतेवाड़ा @ खबर बस्तर। बारसूर इलाके में इंद्रावती नदी में डूबे शिक्षक की लाश मंगलवार को घटना के दो दिन बाद मिली। रेस्क्यू टीम ने घटना स्थल से करीब 1 किमी की दूरी पर शिक्षक का शव ढूंढ निकाला।

दरअसल, रविवार को बारसूर के मुचनार घाट में साथी कर्मचारियों के साथ पिकनिक मनाने गए केन्द्रीय विद्यालय के दो शिक्षक नदी में डूब गए थे, जिनमें से एक को तो बचा लिया गया, लेकिन दूसरे शिक्षक का पता नहीं चल पा रहा था। हादसे में मृत शिक्षक का नाम मोहनीश साहू है।

यह भी पढ़ें :  सोशल मीडिया में अश्लील फोटो वायरल, नाबालिग छात्रा ने कर ली खुदकुशी

 

बताया गया है कि पिकनिक के दौरान मोहनीश ने अपने शिक्षक साथी धर्मेंद्र को बचाने के लिए नदी में छलांग लगाई लेकिन वह खुद हादसे का शिकार हो गया। हादसे में धर्मेन्द्र को तो किसी तरह बचा लिया गया, लेकिन मोहनीश नदी की गहराई में समा गया। घटना के बाद से उसकी खोजबीन की जा रही थी।

जानकारी के मुताबिक, केंद्रीय विद्यालय के 5 कर्मचारी मुचनार घाट पर पिकनिक मनाने गए थे। इसी दौरान नहाते समय शिक्षक धर्मेंद्र कुमार और मोहनीश साहू नदी में डूब गए थे। हादसे के तीसरे दिन करका घाट के पास मोहनीश का शव रेस्क्यू टीम ने बरामद किया।

यह भी पढ़ें :  स्कूलों की छुट्टी का ऐलान... छत्तीसगढ़ में इस दिन से होगी गर्मी की छुट्टी, आदेश जारी

कब थमेगा हादसों का सिलसिला

इंद्रावती नदी की खूबसूरती सैलानियों पर भारी पड़ रही है। बारसूर इलाके में पिकनिक मनाने बड़ी संख्या में लोग पहुंचते हैं, लेकिन यहां सुरक्षा व्यवस्था नहीं होने से कई बार हादसे हो चुके हैं। हाल ही में एनएमडीसी के 2 कर्मचारी भी इंद्रावती नदी में डूबकर अपनी जिंदगी गंवा चुके हैं।

सैर सपाटे और मनोरंजन के बीच जरा सी लापरवाही की कीमत लोगों को अपनी जान देकर चुकानी पड़ रही है। लगातार हो रही घटनाओं के बावजूद ना तो लोग सबक ले रहे हैं, और ना ही प्रशासन इन हादसों को रोकने प्रयासशील दिखता है।

यह भी पढ़ें :  शारदीय नवरात्र पर कोरोना का साया: दंतेश्वरी मंदिर के भीतर श्रद्धालुओं का प्रवेश प्रतिबंधित, मेला भी नहीं भरेगा... आरती का होगा लाईव प्रसारण, जलेंगे सिर्फ 101 ज्योत