भिखारी के मकान पर दबंगों ने किया कब्जा… पत्नी का इलाज कराने गया था हितग्राही, लौटा तो बेघर हुआ

1233

भिखारी को भी नहीं बख्शा दबंगों ने, PMAY मकान पर किया जबरन कब्जा… पत्नी का इलाज कराने रायपुर गया था हितग्राही, लौटा तो बेघर हुआ

दंतेवाड़ा @ खबर बस्तर। समाज के कमजोर वर्ग के लोगों के पास भी खुद का मकान हो, इसी सोच के साथ केंद्र सरकार ने पीएम आवास योजना की शुरूआत की है। इस योजना के तहत निर्धन परिवारों को नि:शुल्क घर बनाकर दिया जाता है, लेकिन अब इन निर्धनों के घरों पर भी दबंगों ने बेजा कब्जा जमाना शुरू कर दिया है।

– इस तरह होती है गुजर-बसर।

ऐसा ही एक मामला दंतेवाड़ा पालिका क्षेत्र में सामने आया है, जहां एक भिक्षाटन करने वाले व्यक्ति के आवास पर शहर के एक युवक ने जबरन कब्जा कर रखा है। सिर पर छत नहीं होने से लाचार शख्स अब अपने बेटे के साथ अस्पताल के सामने बने पार्किंग शेड में ही रात बिताने को मजबूर है।

यह भी पढ़ें :  वेलेंटाइन डे पर IAS अफसर का ट्वीट हुआ वायरल... 'नौकरी इस जन्म, प्यार अगले जन्म'

आपको बता दें कि करीब तीन साल पहले राधाबाई पति पेंटूराम निवासी वार्ड क्रमांक 15 राजेंद्र नगर को नगर पालिका ने पीएमएवाय मकान बनवाकर दिया था। लेकिन घर मिलने के एक वर्ष बाद राधाबाई बीमार हो गई। बीमारी के चलते पेंटूराम अपनी पत्नी को उपचार के लिए रायपुर ले गया।

पत्नी की चली गई जान, मकान भी ​छिना

रायपुर में इलाज के दौरान लम्बा समय लग गया और पेंटूराम की पत्नी की जान भी चली गई। पत्नी को खोने के बाद पेंटूराम जब दंतेवाडा वापस लौटे तो उनके मकान पर सन्नी नामक युवक ने कब्जा कर लिया था। उन्होंने युवक से अपना घर खाली करने को कहा तो उसने उन्हें डरा-धमकाकर भगा दिया। इसके बाद से पेंटूराम और उसका बेटा दर-दर की ठोकरें खा रहे हैं।

यह भी पढ़ें :  दंतेवाड़ा जिले में रहेगा सम्पूर्ण लॉकडाउन, सभी नगरीय निकाय कंटेनमेंट जोन घोषित... दुकानें, साप्ताहिक बाजार व सरकारी दफ्तर भी बंद रहेंगे... कलेक्टर ने जारी किया आदेश, जानिए क्या खुलेगा और क्या रहेगा बंद !
– खुले आसमान के नीचे कट रही है ज़िंदगी।

पेंटूराम का बेटा एक ठेले में काम करता है जबकि वह खुद रोजाना मंदिर में भिक्षाटन करते हैं। भिक्षाटन व ठेले में काम करने के बाद पिता व पुत्र रात बिताने के लिये जिला अस्पताल का सहारा लेते हैं। अस्पताल परिसर में पार्किंग के लिये बने शेड तले ही उनकी हर रात बीत रही है। करीब दो वर्षों से पिता पुत्र इसी तरह से रात बिताते हैं।

स्टांप में कराया हस्ताक्षर

भिक्षाटन करने वाले हितग्राही ने बताया कि कुछ दस्तावेजों पर सन्नी नामक युवक ने उसके बेटे से हस्ताक्षर भी करवाए हैं। एक स्टांप में कुछ दस्तावेज तैयार किए गए थे, जिस पर हितग्राही के बेटे से जबरन हस्ताक्षर कराया गया। इसके बाद वे दुबारा कभी अपने मकान की ओर नहीं गये। जाते भी कैसे, आख़िर इन दबंगों से निपटना इस निर्धन के बस की बात नहीं।

यह भी पढ़ें :  बस्तर संभाग में फूटा कोरोना बम: 24 घंटे में मिले 35 पॉजिटिव मरीज... कोरोना का नया हॉट स्पॉट बना ये जिला, शनिवार-रविवार को दुकानें बंद रखेंगे व्यापारी
– इसी मकान पर आरोपी ने जमाया कब्जा।

इस बारे में जब नगर पालिका सीएमओ लाल सिंह मरकाम से बात की गई तो उन्होंने कहा कि पीएम आवास योजना के तहत बने मकानों में हितग्राही या उसके परिवार के अलावा अन्य कोई व्यक्ति नहीं रह सकता। उस मकान को किराये पर भी नही दिया जा सकता।

सीएमओ ने कहा कि मामले की संपूर्ण जानकारी ली जायेगी और बेजा कब्जाधारियों को वहां से हटाकर हितग्राही को उसका अधिकार दिलाया जायेगा। इधर, नपा अध्यक्ष पायल गुप्ता ने भी हितग्राही को न्याय दिलाने का भरोसा दिलाया है। उन्होंने कहा कि सीएमओ को तत्काल मामले की जाँच कर उचित कार्यवाही के निर्देश दिए हैं।