OMG: पथरी की जगह निकाल डाली मरीज की किडनी… फर्जी डॉक्टर के खिलाफ FIR दर्ज

1279

OMG: पथरी की जगह निकाल डाली मरीज की किडनी… 10 साल बाद हुआ मामले का खुलासा, फर्जी डॉक्टर के खिलाफ FIR दर्ज

रायपुर @ खबर बस्तर। डॉक्टरों को धरती का भगवान कहा जाता है लेकिन कुछ लोगों ने इस सम्मानजनक पेशे को भी कमाई का जरिया बना लिया है। ये खबर पढ़कर आपका इस पेशे से भरोसा उठ जाएगा।

दरअसल, छत्तीसगढ़ के कोरबा में ऐसा हैरतअंगेज मामला सामने आया है, जिसे सुनकर आप भी चौंक जाएंगे। यहां एक डॉक्टर ने मरीज को बिना बताए उसकी किडनी ही निकाल दी। मरीज पथरी के ऑपरेशन के लिए डॉक्टर के पास आया था लेकिन जब वह घर लौटा तो उसकी किडनी ही गायब थी।

यह भी पढ़ें :  लॉकडाउन में मनरेगा के तहत 16 हजार से ज्यादा ग्रामीणों को गांव में ही मिला काम... इस तरह हो रहा सोशल डिस्टेंस का पालन
– सांकेतिक तस्वीर

यह पूरा मामला करीब 10 साल पुराना है, लेकिन जांच के बाद अब इसकी पुष्टि हुई है। मामले की पड़ताल की गई तो पथरी का ऑपरेशन करने वाले डॉक्टर की डिग्री ही फर्जी निकली। अब इस मामले में आरोपी डॉक्टर के खिलाफ FIR दर्ज कराई गई है।

जानकारी के मुताबिक, करीब 10 साल पहले कोरबा के सृष्टि इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस एंड रिसर्च सेंटर में संतोष गुप्ता नाम का एक युवक अपनी पथरी के इलाज के लिए आया था। वहां पदस्थ डॉक्टर एसएन यादव ने उसका चेकअप किया और ऑपरेशन करने की सलाह दी।

– कोरबा स्थित सृष्टि इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस एंड रिसर्च सेंटर।

आरोप है कि पथरी के ऑपरेशन के दौरान डॉक्टर ने संतोष या उसके परिजनों को बिना बताए उसकी किडनी निकाल ली। इसकी जानकारी जब संतोष को लगी तो उसके होश उड़ गए।

यह भी पढ़ें :  इधर नक्सलियों ने 5 वाहन जलाए, उधर खौफजदा कर्मचारी नौ दो ग्यारह... थाने में शाम तक नहीं दर्ज हो सकी एफआईआर

इस तरह हुआ मामले का खुलासा ?

आपरेशन कराने के करीब 10 साल बाद अचानक युवक के पेट में तेज दर्द हुआ, और युवक पेट दर्द का इलाज कराने डॉक्टर के पास पहुंचा। इस दौरान डॉक्टरों ने बताया कि उसकी एक किडनी ही निकाल ली गई है। यह सुनकर उसके पैरों तले जमीन खिसक गई।

– सांकेतिक तस्वीर

किडनी निकालने की बात पता चलने के बाद संतोष गुप्ता ने अपनी जांच कराई तो वाकई में उसकी एक किडनी गायब थी। मामले की पुष्टि होने के बाद युवक ने कोरबा के रामपुर पुलिस थाने में आरोपी डॉक्टर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है।

यह भी पढ़ें :  मुठभेड़ में मारा गया एक लाख का इनामी नक्सली, जवानों ने मौके से बरामद किए ये हथियार

डॉक्टर की डिग्री भी फर्जी !

संतोष ने इस मामले की शिकायत जिला प्रशासन से की। इसके बाद हुई जांच में पता चला कि संतोष का आरोप सही था और उसके ऑपरेशन के दौरान घोर लापरवाही बरती गई थी। बताया गया कि जांच पड़ताल में आरोपी डॉक्टर एसएन यादव की डिग्री भी फर्जी पाई गई है।

इधर, इस पूरे मामले में CMHO डॉ. सीके सिंह ने आरोपी डॉक्टर के खिलाफ रामपुर चौकी में FIR दर्ज कराई है। वहीं चौकी प्रभारी राजीव श्रीवास्तव का कहना है कि मामला दर्ज कर लिया गया है। इस मामले में ज्यादा जानकारी जांच के बाद ही सामने आ पाएगी।