‘हसीना’ और ‘सुंदरी’ के साथ ‘चंदू’ ने रचाया ब्याह… एक ही मण्डप में 2 लड़कियों के साथ लिए फेरे

98

अनोखी शादीः हसीना और सुंदरी के साथ चंदू ने रचाया ब्याह… एक ही मण्डप में लिए 2 लड़कियों के साथ फेरे

खबर बस्तर @ जगदलपुर। छत्तीसगढ़ के बस्तर अंचल में हुई अनोखी शादी इन दिनों सुर्खियां बटोर रही है। दरअसल‚ यहां एक दूल्हे ने एक ही मण्डप में दो लड़कियों के साथ शादी रचाकर ऐसा कारनामा किया है‚ जिसकी हर ओर चर्चा हो रही है।

खास बात यह है कि एक ही दूल्हे से ब्याह करने वाली दोनों दुल्हनें खुश हैं। वहीं उनके परिजनों को भी इस पर कोई ऐतराज नहीं है। बल्कि घरवालों की रजामंदी से ही दोनों लड़कियों की शादी तय हुई और गांववालों की मौजूदगी में विवाह की रस्में संपन्न हुई।

Read More:

यह पूरा मामला बस्तर जिले के टिकरालोहंगा गांव का है। यहां रहने वाले युवक चंदू मौर्य ने करंजी निवासी हसीना बघेल और एरंडवाल की रहने वाली सुंदरी कश्यप से एक ही मण्डप में शादी की। चंदू ने गांव वालों के सामने एक साथ दो लड़कियों के साथ ब्याह रचाया और सात फेरे भी लिए।

यह भी पढ़ें :  वन अधिकार: 50 लोगों को पट्टे मिले, 20 फंसे कायदों में... शहरी इलाकों में पहली दफे जमीन का हक

दोनों के साथ था रिलेशन

चंदू मौर्य बिजली के पोल लगाने का काम करता है। इसी दौरान दोनों लड़कियों हसीना बघेल और सुंदरी कश्यप से उसका मेल-मिलाप हुआ और वो दोनों को दिल दे बैठा। बताया गया है कि वह दोनों युवतियों के साथ रिलेशनशिप में था इसी बीच सुंदरी गर्भवती हो गई।

इधर‚ सुंदरी को पता चला कि चंदू उसके अलावा हसीना से भी इश्क लड़ा रहा है। इसी बीच हसीना को भी इस बात की भनक लगी कि उसका प्रेमी सुंदरी के साथ भी रिलेशनशिप में है और वह गर्भवती है। इसकी जानकारी तीनों के परिवार के लोगों को लगी और आपसी रजामंदी से तीनों का विवाह करवाने का फैसला किया गया।

यह भी पढ़ें :  CM भूपेश बघेल ने दी राहत: नगरीय क्षेत्रों में आवास व व्यवसाय के लिए अब सहजता से मिल सकेगी सरकारी जमीन

शादी के कार्ड में दोनों लड़कियों के नाम

इस अनोखी शादी को लेकर परिजनों ने कोई कोर कसर नहीं छोड़ी। बाकायदा पूरे गांव में शादी का कार्ड बंटवाया गया और इसमें दूल्हे के साथ दोनों लड़कियों के नाम भी छपवाए गए। पूरे धूमधाम से शादी हुई जिसमें शामिल होने वाले लोगों में भी खासा उत्साह दिखा। शादी के बाद भोज कार्यक्रम में दूल्हा व दो दुल्हन एक ही स्टेज में साथ बैठे से सभी की बधाई स्वीकार की।

यह भी पढ़ें :  एड़समेटा गोलीकाण्ड: अब मंत्रालय तक पैदल मार्च के मूड में आदिवासी… जानिए बुरजी गांव से विधायक और कलेक्टर को क्यों मिला ‘न्यौता’..?

टैक्नोलॉजी का लिया सहारा

एक दूल्हे के साथ दो दुल्हनों की शादी होना इतना आसान नहीं था। युवक व दोनों युवतियां अलग अलग गांवों के थे। ऐसे में उन्होंने टेक्नाेलॉजी का सहारा लिया और मोबाइल में कांफ्रेस कॉल के जरिये बातें करते रहे। आखिरकार उनकी चाहत रंग लाई और तीनों ने एक दूजे का होकर ही दम लिया।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…

खबर बस्तर के WhatsApp ग्रुप में जुड़ने के लिए इस Link को क्लिक कीजिए…