अपहृत इंजीनियर की पत्नी की मार्मिक अपील, नक्सलियों के पसीजने की आस… पति की रिहाई के लिए जंगल में दाखिल तक हो आई हैं अर्पिता

95

अपहृत इंजीनियर की पत्नी की मार्मिक अपील, नक्सलियों के पसीजने की आस… पति की रिहाई के लिए जंगल में दाखिल तक हो आई हैं अर्पिता

पंकज दाऊद @ बीजापुर। तीन दिन पहले अपहृत पीएमजीएसवाय के सब इंजीनियर अजय रौशन लकड़ा की पत्नी अर्पिता ने उन्हें मुक्त कर देने की मार्मिक अपील नक्सलियों से की है। अपने पति की सकुशल वापसी की आस लिए वे शनिवार को धुर नक्सल प्रभावित गांव बुरजी तक अपने तीन साल के बेटे के साथ गईं थीं।

यह भी पढ़ें :  भाजपा जिला प्रकोष्ठ के नवनियुक्त पदाधिकारियों का हुआ भव्य स्वागत, कार्यक्रम में शामिल हुए पूर्व मंत्री गागड़ा
– अजय रौशन लकड़ा

नक्सलियों ने 11 नवंबर की दोपहर यहां से 5 किमी दूर गोरना गांव से उनके पति अजय लकड़ा व कार्यालय सहायक का अपहरण कर लिया था। 12 नवंबर को तो नक्सलियों ने कार्यालय सहायक लक्ष्मण परतागिरी को मुक्त कर दिया लेकिन अब भी अजय लकड़ा उनके कब्जे में हैं।

शनिवार की सुबह अर्पिता लकड़ा गंगालूर थाना क्षेत्र के बुरजी गांव गईं थीं और वहां उन्होंने ग्रामीणों के जरिए नक्सलियों से मार्मिक अपील करते कहा कि उनके पति को छोड़ दें। पति के अलावा यहां उनका कोई नहीं है। वे बाहर से हैं।

यह भी पढ़ें :  जब CM के रोड शो में 'मद्देड़ बाजा' की धुन पर डांस करने लगे मंत्री कवासी लखमा, वायरल हो रहा वीडियो...
– अर्पिता लकड़ा अपने तीन साल के पुत्र के साथ।

अर्पिता ने कहा कि जिन भी भाई बहन के पास उनके पति हैं, उन्हें छोड़ दें। अपील के बाद वे जिला मुख्यालय लौट आईं। उम्मीद है कि इस अपील से नक्सलियों का मन पसीजेगा और वे उन्हें मुक्त कर देंगे। वे शनिवार को कुछ मीडियाकर्मियों के सहयोग से बुरजी गांव बाइक से गईं थीं।

ज्ञात हो कि अजय लकड़ा यहां पीएमजीएसवाय में 2018 से सब इंजीनियर के तौर पर कार्यरत हैं। गोरना इलाके में पीएमजीएसवाय के अलावा डीएमएफ से भी सड़क बन रही है। इसे देखने वे वहां गए थे।

यह भी पढ़ें :  सुकमा में एक ही दिन में दो स्कूली बच्चों की मौत, अब कन्या छात्रावास की छात्रा ने तोड़ा दम, कई दिनों से बीमार थी छात्रा