पंचायतों में ठप हो सकता है कामकाज, फण्ड पर होल्ड लगने से जिले के सरपंच हो गए हैं खफा

52

पंचायतों में ठप हो सकता है कामकाज, फण्ड पर होल्ड लगने से जिले के सरपंच हो गए हैं खफा

पंकज दाऊद @ बीजापुर। जिले की पंचायतों में कामकाज कुछ दिनों में ठप हो सकता है क्योंकि चौदहवें और पंद्रहवें वित्त की राशि पर प्रशासन की ओर से होल्ड लगा दिए जाने से सरपंच बेहद खफा हैं और वे कामबंद हड़ताल के मूड में हैं।

इस मामले को लेकर जिला सरपंच संघ के प्रतिनिधियों ने जगबंधु मांझी के नेतृत्व में पंचायत विभाग के उप संचालक गीत कुमार सिन्हा से मुलाकात की। उप संचालक ने सरपंचों को ये बात जिला पंचायत सीईओ रवि साहू तक पहुंचाने का भरोसा दिया और कहा कि इस पर 7 से 8 दिनों में फैसला ले लिया जाएगा।

यह भी पढ़ें :  दंतेवाड़ा-बीजापुर बार्डर पर पुलिस-नक्सली मुठभेड़, DRG के लड़ाकों ने एक माओवादी को मार गिराया... शव के साथ नक्सल सामग्री बरामद

सरपंचों ने मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत को लिखे ज्ञापन में कहा है कि चौदहवें और पंद्रहवें वित्त की राशि पर होल्ड लगाए जाने से नाना प्रकार की दिक्कत आ रही है।  छह सात माह से मजदूरी और दुकानों के सामान का भुगतान नहीं किया गया है। इससे मजदूर परेशान हैं और दुकानदार सरपंचों को परेशान कर रहे हैं।

दुकानदार अब कोई सामान नहीं दे रहे हैं। उचित मूल्य की दुकान के भवन, गोठानों में शेड, आंगनबाड़ियों में रनिंग वाटर, पंचायत भवन आदि का काम किया गया है। इसका भुगतान नहीं हो पा रहा है।

यह भी पढ़ें :  दिहाड़ी मजदूरों की मदद को सामने आए युवा कांग्रेसी, हाथ धुलाकर किया राशन वितरण

जिला सरपंच संघ के अध्यक्ष एवं जिला कांग्रेस उपाध्यक्ष जगबंधु मांझी ने बताया कि उन्हें 7 से 8 दिन का वक्त दिया गया है। सरपंच संघ की प्रांतीय इकाई को इससे अवगत करा दिया गया है। प्रांतीय इकाई के फैसले के बाद ही आगे की रणनीति पर चर्चा होगी।

पंचायतों का कामकाज बंद भी किया जा सकता है। इससे ग्रामीण विकास पर असर पड़ेगा। उन्होंने बताया कि तत्कालीन कलेक्टर केडी कुुंजाम के कार्यकाल में राशि पर होल्ड लगाया गया था। फिर इसे खोल दिया गया था। कुछ दिनों बाद फिर से होल्ड लगा दिया गया।

यह भी पढ़ें :  जवानों ने जनमिलिशिया सदस्‍य को किया गिरफ्तार, निशानदेही पर विस्फोटक बरामद

जगबंधु मांझी ने कहा कि जहां गड़बड़ी है, उस पंचायत के लिए राशि पर होल्ड लगाना मुनासिब है लेकिन बाकि पंचायतों में जहां काम हुआ है, वहां ये ठीक नहीं है।