नक्सली ट्रेनिंग कैंप में मिला ‘थर्मल स्कैनर’, माओवादियों को सता रहा कोरोना का डर

50

नक्सलियों में भी कोरोना का खौफः जवानों ने नक्सल ट्रेनिंग कैंप किया ध्वस्त, मौके पर मिला ‘थर्मल स्कैनर’

बीजापुर @ खबर बस्तर। बस्तर समेत छत्तीसगढ़ में आतंक का पर्याय बन चुके नक्सलियों में भी वैश्विक महामारी कोरोना वायरस का खौफ सताया हुआ है। दंतेवाड़ा और बीजापुर जिले के बार्डर पर सुरक्षा बलों द्वारा तबाह किए गए नक्सल कैंप में विस्फोटक व अन्य सामानों के साथ इन्फ्रारेड थर्मामीटर (थर्मल स्कैनर) भी जवानों ने बरामद किया है। इस मशीन से माओवादी अपने शरीर का तापमान चेक किया करते थे।

यह भी पढ़ें :  जिला अस्पताल सुकमा को मिली नई 108 एम्बुलेंस की सौगात

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक, बुधवार को दंतेवाड़ा जिले की DRG टीम व बीजापुर के DRG/STF/CRPF व कोबरा की ज्वाइंट पार्टी नक्सलियों की मौजूदगी की सूचना पर नक्सल उन्मूलन अभियान के तहत सर्चिंग पर रवाना हुई थी। इसी दिन शाम करीब 4 बजे सर्चिंग पार्टी को तिमेनार-इंड्रीपाल के जंगल में माओवादियों का कैम्प दिखाई देने पर चारो तरफ से घेराबंदी शुरू की।

नक्सल कैंप में मिला ‘थर्मल स्कैनर’

पटाखा फूटा और भागे नक्सली

बताया जाता है कि फोर्स की अलग-अलग टीमों ने नक्सल कैंप को घेरते हुए आगे बढ़ना शुरू किया। इस बीच नक्सलियों को जवानों के आने की भनक लग गई। पटाखा फोड़कर नक्सलियों ने अपने साथियों को आगाह किया और मौके पर मौजूद माओवादी कैम्प में सारा सामान छोड़कर जंगल, पहाड़ी का फायदा उठाकर भाग गए।

यह भी पढ़ें :  नक्सलियों ने पेड़ गिराकर विद्युत लाईन को किया बाधित... 6 बिजली खंभे को पहुंचाया नुकसान, अंधेरे में डूबे 10 गांव

घटनास्थल की सर्चिंग के दौरान जवानों ने ट्रेनिंग कैम्प से टिफिन बम, पाईप बम, वायर, नक्सली वर्दी, दवाईयां, थर्मल स्कैनर,  नक्सली साहित्य, बैनर, पोस्टर, पिट्ठू, प्रशिक्षण सामान, बर्तन एवं अन्य दैनिक उपयोगी सामग्री बरामद किया है। वहीं माओवादी कैम्प को ध्वस्त किया गया। डेरा छोड़कर भागे माओवादियों के संभावित जगह पर सर्चिंग की जा रही है।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…


खबर बस्तर के WhatsApp ग्रुप में जुड़ने के लिए इस Link को क्लिक कीजिए…

यह भी पढ़ें :  कोरोना को हराना है: नक्सलियों के लिए सिलता था वर्दी, अब जवानों के लिए मास्क बना रहा है सरेंडर नक्सली