मांई दंतेश्वरी को चढ़ावे में मिले 50 लाख के ज़ेवर, इस परिवार ने भेंट किए 1 किलो स्वर्ण आभूषण

204

मांई दंतेश्वरी को चढ़ावे में मिले 50 लाख के ज़ेवर, इस परिवार ने भेंट किए 1 किलो स्वर्ण आभूषण

दंतेवाड़ा @ खबर बस्तर। बस्तर की आराध्य देवी मांई दंतेश्वरी की ख्याति देश विदेश में फैली है। माता के दर्शन को हजारों श्रद्धालु मंदिर पहुंचते हैं और इनमें से बहुत से ऐसे हैं जो अपनी मनोकामना पूर्ण होने पर माता को चढ़ावा भी चढ़ाते हैं।

– स्वर्णाभूषणों से सुशोभित माता

इनमें एक नाम और शुमार हो गया है और वह है धमतरी के एक परिवार का। दरअसल, इस परिवार ने माता के चरणों में एक किलो सोने के आभूषण भेंट किए हैं। यह मंदिर में भक्तों द्वारा दिया गया अब तक का सबसे बड़ा चढ़ावा माना जा रहा है।

यह भी पढ़ें :  अच्छी खबर: कोरोना के जोखिम में होने लगा 'गुप्तदान', लॉक डाउन में फंसे 1000 दिहाड़ी मजदूर, मास्क व राशन मुहैया करा रही पालिका

धमतरी जिले के कुरूद तहसील निवासी एक परिवार द्वारा मांई दंतेश्वरी मंदिर पहुंचकर सोने के गहने भेंट किए गए हैं। माता को चढ़ाए गए स्वर्ण आभूषणों में सोने का मुकुट, चूड़ी, हार, झुमका, बाजूबंद, अंगूठी, नथ, बिंदिया, चेन और पायल जैसे ज़ेवर शामिल हैैं।

Read More:


आपको बता दें कि दंतेवाड़ा स्थित मां दंतेश्वरी मंदिर देश का 52वां शक्तिपीठ माना जाता है। मांईजी के अनन्य भक्तों में राजनेताओं से लेकर, अफसर और ब्यूरोक्रेट शामिल हैं। यहां एलके आडवाणी, अमित शाह, राजनाथ सिंह से लेकर तमाम बड़े नेता शीश नवा चुके हैं।

यह भी पढ़ें :  सुकमा मुठभेड़: बुलेट प्रूफ जैकेट पहने नक्सलियों ने किया था पुलिस पार्टी पर हमला... 30 घंटे तक चले ऑपेरशन में भारी पड़े जवान, पुलिस का दावा, हताहत हुए कई माओवादी!


गौरतलब है कि दंतेश्वरी मंदिर में श्रद्धालुओं द्वारा सैकड़ों वर्षों से मांईजी को सोने-चांदी के आभूषण और छत्र अर्पित करते आ रहे हैं। हाल ही में एक भक्त ने चांदी का गोल्ड प्लेटेड छत्र माता को भेंट किया था। इन ज़ेवरातों को जिला कोषालय में जमा कराया जाता है। मंदिर में भक्तों द्वारा बड़ी संख्या में नकद राशि भी दान की जाती है।

ये VIDEO देखा क्या

 

यह भी पढ़ें :  इधर हो रही थी वोटिंग, उधर नक्सलियों ने युवक की कर दी हत्या... परिजनों को दी इस बात की धमकी !

भेंट में मिले करोड़ों के गहने

टेंपल कमेटी के रिकार्ड में 1979 के बाद से बीते करीब 4 दशक में भक्तों द्वारा चढ़ाए गए आभूषणों का विवरण दर्ज है। इन गहनों की कीमत करोड़ों में है। हालांकि, इन आभूषणों का कोई सदुपयोग नहीं हो पा रहा है। टेंपल कमेटी ने गर्भगृह में स्वर्ण और रजत की परतें चढ़ा कर भव्य रूप देने का प्रयास किया था लेकिन केंद्रीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के हस्तक्षेप के चलते यह संभव नहीं हो सका।