दो माओवादी युवतियां हलाक, मौत का सामान छोड़ भागे नक्सली… DRG के स्पेशल ग्रुप ने जंगल में घेरा लाल लड़ाकों को, बड़ी वारदात की फिराक में थे ये

332

दो माओवादी युवतियां हलाक, मौत का सामान छोड़ भागे नक्सली… DRG के स्पेशल ग्रुप ने जंगल में घेरा लाल लड़ाकों को, बड़ी वारदात की फिराक में थे ये

पंकज दाऊद @ बीजापुर। यहां से करीब बीस किमी दूर नैमेड़ थाना क्षेत्र के झपेली गांव के समीप दुरधा की पहाड़ियों में डीआरजी के स्पेशल ग्रुप ने एक सटीक खुफिया इशारे पर बीती रात माओवादियों को घेरा और इस दौरान हुई मुठभेड़ में दो वर्दीधारी माओवादी युवतियों को मार गिराया।

नक्सली अपना पूरा सामान मौके पर ही छोड़कर भाग गए। ऐसा अनुमान लगाया गया है कि यहां कम से कम चार माओवादी घायल हुए हैं।

एएसपी डॉ पंकज शुक्ला ने पत्रकारों को बताया कि भैरमगढ़ इलाके में नक्सलियों की हलचल की खबर आ रही थी। एक दिन पहले ही नैमेड़ थाना क्षेत्र के दूरधा पहाड़ी में नक्सलियों की एक बड़ी टीम की मौजूदगी की खुफिया और सटीक खबर मिली थी।

इसके बाद एसएसपी कमलोचन कश्यप के मार्गदर्शन में डीआरजी के एक स्पेशल ग्रुप एवं सीआरपीएफ के जवानों को झपेली गांव की ओर भेजा गया। यहां देर रात नक्सलियों की घेराबंदी की गई। इससे बचने नक्सलियों ने गोलीबारी शुरू कर दी।

यह भी पढ़ें :  लाखों की हैचरी किसी काम की नहीं, किसान महंगे दाम पर मछली बीज खरीदने मजबूर... उद्यानिकी विभाग ने किया था मत्स्य उद्योग का काम !

डीआरजी के जवानो को भारी होते देख नक्सली अपना पूरा सामान छोड़कर भाग गए। मौके की सर्चिंग पर दो वर्दीधारी युवतियों की लाश मिली। इनकी उम्र कोई बाइस से पच्चीस बरस अनुमानित है। अब तक दोनों की शिनाख्त नहीं हो पाई है। शिनाख्ती की कोशिश की जा रही है। सामान की संख्या से पता चलता है कि यहां करीब साठ के आसपास नक्सलियों का जमावड़ा था। ये संख्या इससे अधिक या कम भी हो सकती है।

एएसपी डॉ पंकज शुक्ला के मुताबिक डीआरजी की टीम सुबह सुरक्षित लौट आई है। सामान भी बरामद कर लाए गए हैं। हेलीपैड पर नक्सलियों के शव और सामान लाए गए थे। इस दौरान डीएसपी आशीष कुंजाम, तुलसीराम टेकाम, विनीत साहू, नेहा पवार एवं टीआई शशिकांत भारद्वाज भी मौजूद थे।

यह भी पढ़ें :  नारायणपुर में ITBP के 4 जवान निकले कोरोना पॉजिटिव, पहले भी 2 जवान हो चुके हैं संक्रमित...जिले में एक्टिव केस हुए 6, कलेक्टर ने की पुष्टि

यूपीएसपी परीक्षा से नक्सलियों का क्या लेना-देना

पुलिस फोर्स ने सामानों का जखीरा बरामद किया है। इसमें यूपीएससी परीक्षा की एक किताब भारत की संवैधानिक व्यवस्था भी शामिल है। एसएसपी कमलोचन कश्यप का कहना है कि ये किताब संविधान की जानकारी जुटाने के लिए रखी गई थी।

ये साहित्य बरामद

मौके से झंकार, संघर्षरत महिला, प्रभात, मानव विज्ञान शास्त्र, इमरजेंसी मेडिकल किट, पीएलजीए यूनिट, राइफल से लड़ाई, मिडंगूर, पार्टी संविधान, कम्यूनिस्ट पार्टी के सदस्य की क्या योग्यता होनी चाहिए, पार्टी प्राथमिक विषय, कार्यनीति, राज्य ओसा राज्य मंत्र, पाड़ियोरा पोल्लो, तथ्य खतरे और करने के काम, विज्ञान शास्त्र, बाल हिन्दी शब्दकोष, ईट स्लीप राइड एवं रिपीट के अलावा तेलुगू भाषा की कुछ किताबें शामिल हैं।

नक्सलियों ने मानव शरीर को दर्शाने वाले चार्ट भी रखे थे। इसके अलावा हिन्दी की कखगघ की किताबें एवं नीतिगत विषयों पर लिखित किताबें भी बरामद की गईं। एसएसपी कमलोचन कश्यप के मुताबिक इन विषयों पर आधारित किताबों से नक्सलियों के खिलाफ ऑपरेशन में मदद मिलेगी।

यह भी पढ़ें :  आफत बनी बारिश: नेशनल हाईवे पर आवाजाही ठप... जगदलपुर, निजामाबाद और वारंगल के रास्ते बंद... एक ही दिन हुई 236 मिमी बारिश, सड़क भी बह गई

भारी मात्रा में विस्फोटक

मौके से भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद किए गए। इनमें नाइन एमएम की पिस्टल, भरमार बंदूक, बड़ी मात्रा में कोर्डेक्स वायर, साठ से सत्तर पिट्ठू, बर्तन, ब्राण्डेड जूते, चप्पल, विस्फोटक आदि बरामद किए गए।

एएसपी डॉ पंकज शुक्ला ने बताया कि टीसीओसी के दौरान नक्सली सक्रिय हैं लेकिन फोर्स लगातार सर्चिंग कर रही है। ये रूटिन है। नक्सली समस्या के समाधान के लिए पुलिस प्रयत्नशील है। ऑपरेशन चलता रहेगा।

एएसपी का कहना है कि नक्सली इतनी बड़ी नफरी में आए थे और इससे इस बात का भान होता है कि वे किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने की फिराक में थे। बताया गया है कि नक्सलियों ने इतने सामान छोड़े कि एक पिकअप भर गई।