ऑपरेशन राहत: बाढ़ में फंसी दो गर्भवती महिलाओं को सुरक्षित पार लाया गया… राखी मनाने गई महिलाएं भी लौटीं घर

23
Officers arrived in flood affected areas with ration and medicine

ऑपरेशन राहत: बाढ़ में फंसी दो गर्भवती महिलाओं को सुरक्षित पार लाया गया… राखी मनाने गई महिलाएं भी लौटीं घर

पंकज दाऊद @ बीजापुर। जिले के भोपालपटनम तहसील में 15 दिनों की बरसात से टापू में तब्दील मिनूर गांव में ऑपरेशन राहत शुरू कर दिया गया है। शनिवार को संस्थागत प्रसव के लिए दो गर्भवती महिलाओं को नदी पार लाया गया। वहीं राखी मनाने मायके गई 10-12 महिलाओं और बच्चों को भी बोट से लाया गया।

यह भी पढ़ें :  रायपुर की सड़क पर बिखरे मिले 50-50 के नोट, कोरोना के डर से किसी ने हाथ तक नहीं लगाया... पुलिस ने नोटों को सेनिटाइज कर किया जब्त

Two pregnant women trapped in flood were brought safely

ऑपरेशन राहत के तहत एसडीएम उमेश पटेल ने नगर सेनानी की मदद से एक मोटरबोट की व्यवस्था कर एक अंतर विभागीय संयुक्त टीम बनाई और इस टीम को मिनूर गांव भेजा। पंचायत विभाग की टीम का नेतृत्व जनपद सीईओ एवं डिप्टी कलेक्टर मनोज कुमार बंजारे कर रहे थे। जनपद सीईओ ने 44 परिवारों को निःशुल्क राशन दिया।

Read More:

जनपद पंचायत भोपालपटनम की ओर से हर परिवार को आलू, प्याज एवं अरहर दाल के पैकेट तैयार कर दिए गए। गोरला पंचायत की ओर से भी चावल, तेल, हल्दी, मिर्ची, आलू एवं मसूर दाल भेजे गए। गोरला के आदिम जाति कल्याण विभाग के प्रभारी अधीक्षक ने बीस परिवारों को कंबल दिया।

यह भी पढ़ें :  तीर कमान से लैस आदिवासियों ने रैली निकाल लगाया आरोप, पुलिस की गश्त से फैल रहा कोरोना... स्कूल खोलने की मांग भी की

तहसीलदार शिवनाथ बघेल की अगुवाई में बनी रेवेन्यू टीम ने मकान क्षति, पशु क्षति एवं फसल क्षति के केस तैयार किए। एक बैल की हानि का प्रकरण मौके पर तैयार किया गया। चौदह मकानों के आंशिक क्षति के प्रकरण भी तैयार किए गए। बताया गया है कि कुछ लोगों को मिनूर गांव भी ले जाया गया।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…