नक्सलियों का प्रभावक्षेत्र सिकुड़ा, बनी है ठोस नीति… केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री बोले- हमले हुए तो ही फोर्स करती है बल प्रयोग

237

नक्सलियों का प्रभावक्षेत्र सिकुड़ा, बनी है ठोस नीति… केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री बोले- हमले हुए तो ही फोर्स करती है बल प्रयोग

पंकज दाऊद @ बीजापुर। केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय ने इस बात का खुलासा किया है कि नक्सलियों का सिर्फ प्रभावक्षेत्र ही नहीं सिकुड़ा है अपितु उनके कैडर भी कम हो गए हैं। फोर्स तभी बल प्रयोग करती है, जब नक्सली हमले करते हैं।

केन्द्रीय राज्य मंत्री ने यहां पत्रकारों से चर्चा में कहा कि नक्सलवाद के खात्मे के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ठोस नीति बनाई है। केन्द्र से भी मुख्यधारा में लौटने वाले नक्सलियों के पुनर्वास की योजना बनाई है और राज्य सरकार की भी ऐसा कर रही है।

यह भी पढ़ें :  पूर्व CM डॉ रमन ने दंतेवाड़ा कलेक्टर को क्यों दी चश्मा बदलने की सलाह..? पढ़िए ये खबर

जहां तक कार्यों के क्रियान्वयन का सवाल है, ये स्टेट का सबजेक्ट है और केन्द्र सरकार इसमें मदद देती है। चाहे वह फण्ड हो या बल। नक्सलवाद के खात्मे के लिए सड़क, बिजली, पानी, हॉस्पिटल एवं मूलभूत सुविधाएं गांवों तक मुहैया कराई जा रही हैं। 

गांव के लोग खुद मूलभूत सुविधाएं चाहते हैं। देश की विचारधारा अमन-चैन एवं तरक्की है जबकि नक्सलवाद विदेशी विचारधारा है। ये हिंसा से जुड़ी विचारधारा है और भारत हिंसा नहीं चाहता है। हिंसा केवल जंग में होती है और खासकर बॉर्डर में।

यह भी पढ़ें :  कोविड हाॅस्पिटल में बदइंतजामी, खाने की टाइमिंग भी ठीक नहीं... पूर्व मंत्री गागड़ा ने कहा, कोरोना से निपटने में भूपेश सरकार नाकाम

एक सवाल के जवाब में केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय ने कहा कि दक्षिण बस्तर में फोर्स ओर से हवाई हमले की जानकारी उन्हें नहीं है। फोर्स के कैम्पों और थानों को हटाने इन दिनों आदिवासियां के चल रहे आन्दोलन के बारे में उन्होंने साफ कहा कि इसके पीछे नक्सली हैं और वे ही आदिवासियों का सरकारों के खिलाफ भड़का रहे हैं। आदिवासी खुद सड़क चाहते हैं।

सरेण्डर के बाद पूर्व नक्सलियों के टारगेट में आने और फिर उनकी हत्या के बारे में उन्होंने कहा कि इसके बारे में वे जानकारी हासिल करेंगे।
नक्सल मोर्चे पर सीआरपीएफ और सिविल पुलिस के तालमेल के बारे में उन्होंने कहा कि इनके बीच अच्छा समन्वय है। समर्पण करने वाले नक्सलियों को अच्छी जिंदगी मिलेगी और उनके लिए रोजगार मुहैया कराया जाएगा। इसके अलावा उनके बच्चों को अच्छी तालीम दी जाएगी।

यह भी पढ़ें :  CG-महाराष्ट्र बार्डर पर हुए मुठभेड़ में 26 नक्सली ढेर

लोग यदि नक्सलियों से भयाक्रांत हैं तो इसका मतलब ये हुआ कि उनका कोई सम्मान नहीं है। बीजापुर प्रवास के बारे में उन्होंने कहा कि देश के हर कोने का विकास ही सरकार का मकसद है। पत्रवार्ता में छग के पूर्व वन मंत्री महेश गागड़ा एवं भाजपा जिलाध्यक्ष भी मौजूद थे।