जब बाढ़ में फंसे बस्तर सांसद दीपक बैज… डेढ़ घंटे किया पानी उतरने का इंतजार, फिर बैरंग लौटना पड़ा

141
When Bastar MP Deepak Baij got stuck in flood

जब बाढ़ में फंसे बस्तर सांसद दीपक बैज… डेढ़ घंटे किया पानी उतरने का इंतजार, फिर बैरंग लौटना पड़ा

पंकज दाऊद @ बीजापुर। बस्तर सांसद दीपक बैज का बीजापुर में बाढ़ पीड़ितों से मिलने का कार्यक्रम टल गया। तुमनार के पास इंद्रावती का पानी सड़क पर आ जाने की वजह से वे आगे नहीं बढ़ पाए और उन्हें तुमनार से ही जगदलपुर लौटना पड़ गया।


जानकारी के मुताबिक, सांसद दीपक बैज का यहां शुक्रवार को बाढ़ग्रस्त इलाकों के दौरे व पीड़ितों से मुलाकात का कार्यक्रम था। शुक्रवार की सुबह 11 से 12 बजे तक उनका कोमला, तुमला, गुदमा, झाड़ीगुट्टा एवं आसपास के इलाकों में राहत शिविरों के अवलोकन का कार्यक्रम प्रस्तावित था। लेकिन बाढ़ की वजह से सांसद को प्रवास टल गया।

यह भी पढ़ें :  छत्तीसगढ़ में फूटा कोरोना बम: एक ही दिन में मिले रिकार्ड 40 पॉजिटिव मरीज... एक्टिव मरीजों की संख्या पहुंची 100 के पार

Read More:

 

निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार दोपहर एक से डेढ़ बजे तक सांसद दीपक बैज नैमेड़ में बाढ़ की स्थिति का जायजा लेने वाले थे। वहीं डेढ़ से तीन बजे तक उनकी जिला मुख्यालय में सर्किट हाऊस में बाढ़ राहत को लेकर अफसरों से चर्चा का कार्यक्रम था।

यह भी पढ़ें :  गीदम के मातृ व शिशु अस्पताल में शार्ट सर्किट से लगी भीषण आग...लाखों का सामान जलकर खाक

When Bastar MP Deepak Baij got stuck in flood

बताया गया है कि उनके साथ वरिष्ठ कांग्रेसी नेता व पीसीसी सचिव मलकीत सिंह गैदू भी आ रहे थे। वे दो तीन नालों को पार कर जब बांगापाल पहुंचे तो वहां इंद्रावती का बैक वाॅटर नेशनल हाईवे पर आ गया था। ये पानी बढ़ ही रहा था।

Read More:

सांसद यहां करीब डेढ़ घंटे रूककर पानी कम होने का इंतजार करते रहे लेकिन पानी कम नहीं होने से उन्हें लौटना पड़ा। यहां उन्होंने गांव के लोगों से चर्चा की और बाढ़ की स्थिति के बारे में पूछताछ की। उनके साथ डिप्टी कलेक्टर एवं गीदम की तहसीलदार प्रीति दुर्गम समेत स्थानीय कार्यकर्ता भी मौजूद थे।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…
यह भी पढ़ें :  तिमेड़ पुल से बदलेगी भोपालपटनम इलाके की तस्वीर, तेलंगाना-महाराष्ट्र से सीधे जुड़ेगा बस्तर... 5 घंटे में नागपुर और 6 घंटे में हैदराबाद पहुंच सकेंगे