जब CM भूपेश बघेल को ATM में मिला 50 रुपये का नकली नोट !

1378

जब CM भूपेश बघेल को ATM में मिला 50 रुपये का नकली नोट

रायपुर @ खबर बस्तर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल शनिवार को पत्थलगांव विधानसभा क्षेत्र में आम जनता से ‘भेंट मुलाकात’ कार्यक्रम के दौरान पत्थलगांव स्थित स्वामी आत्मानंद स्कूल पहुंचे। वहां उन्होंने छात्रा कृति और निधि के आग्रह पर ‘कबाड़ के जुगाड़’ से बना ताज पहना।

मुख्यमंत्री बघेल ने छात्राओं द्वारा कबाड़ से बनाए गए इस ताज की सुंदरता एवं उनकी कलाकृति की सराहना की। सीएम ने इस मौके पर स्कूल के छात्रों के बच्चों के आग्रह पर कैरम में स्ट्राइकर से गोटी पर निशाना लगाया। उन्होंने बच्चों के साथ लूडो और शतरंज भी खेला।

यह भी पढ़ें :  भ्रष्टाचार की शिकायत पर IAS की छुट्टी... CM भूपेश बघेल ने जिला पंचायत CEO को हटाया, शिकायत के दूसरे ही दिन कार्रवाई

स्वामी आत्मानन्द स्कूल में सीएम भूपेश बघेल बच्चों के बीच बचपन के रंग में रंगे नज़र आए। उन्होंने समर कैम्प में बच्चों द्वारा कबाड़ के जुगाड़ से बनाये मॉडल देखे। इसी दौरान उन्होंने बच्चों के एटीएम का निरीक्षण किया।

कबाड़ के जुगाड़ से बने इस एटीएम में मुख्यमंत्री ने एटीएम ऑपरेटर बने बच्चों जयंत साहू और प्रीति साहू के निर्देशन में एटीएम से 50 रुपये का ट्रांजेक्शन किया। बदले में मुख्यमंत्री को एटीएम से 50 रुपये का नोट मिला।

यह भी पढ़ें :  Covid-19 इफेक्ट: इश्क वाली शादी का जुर्माना लेने आना पड़ा भारी..! कोरोना संकट में ऐसे फंस गए 14 नेशनल आर्टिस्ट, पढ़िए ये खबर

एटीएम से पैसे लेते हुए मुख्यमंत्री ने बच्चों से पूछा- क्या ये नोट असली है? जिसके जवाब में बच्चों ने बड़ी मासूमियत से जवाब दिया, नहीं सर, ये नोट नकली है। यह सुनकर सीएम मुस्कुरा दिए।

इस दौरान सीएम ने जशपुर जिले की मेरिट होल्डर बच्ची प्रियांशु पाठक से मुलाकात की। प्रियांशु ने 10वीं की परीक्षा में 96.83% अंक के साथ प्रादेशिक प्रावीण्य सूची में स्थान बनाया है। मुख्यमंत्री बघेल ने प्रियांशु को टेबलेट देकर सम्मानित किया।

यह भी पढ़ें :  एनकाउंटर में 3 जवान शहीद... CG-ओड़िशा बार्डर पर पुलिस-नक्सली मुठभेड़, ASI समेत CRPF के तीन जवानों की शहादत

उसने सीएम बघेल को बताया कि उसका सपना आगे आईआईटी से इंजीनियरिंग करने का है। वह कक्षा 10वीं के बाद अपनी आगे की पढ़ाई स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम से करना चाहती है। क्योंकि यहां अंग्रेजी में पढ़ाई हो रही है जिससे वह परीक्षा की तैयारी अभी से कर सकती है।