जब मंत्री कवासी लखमा बने CM भूपेश के दुभाषिया… CM ने हिंदी में की बातचीत, कवासी ने गोंडी में समझाया

1679

जब मंत्री कवासी लखमा बने CM भूपेश के दुभाषिया… मुख्यमंत्री ने मरीज से हिंदी में की बातचीत, कवासी ने गोंडी में समझाया

महफूज़ अहमद @ खबर बस्तर। छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव में अभी सालभर का समय बाकी है और अभी से सूबे के मुखिया भूपेश बघेल प्रदेश के सभी 90 विधानसभा क्षेत्रों के मैराथन दौरे पर निकल जनता की समस्याओं से रूबरू हो रहे हैं। वहीं उनकी कोशिश सियासत की नब्ज टटोलने की भी है।

कहा जाता है कि छत्तीसगढ़ की सत्ता का रास्ता बस्तर से होकर गुजरता है। लिहाजा अपने ‘भेंट-मुलाकात अभियान’ के दूसरे दौर में सीएम भूपेश बघेल का उड़नखटोला बस्तर में उतर चुका है।

यह भी पढ़ें :  दंतेवाड़ा में बड़े नेताओं की मौजूदगी के बीच नक्सली वारदात... ग्रामीण को उतारा मौत के घाट, मुखबिरी का लगाया आरोप

बुधवार को वे सुकमा जिले के प्रवास पर हैं। अगले 3 दिनों तक वे बस्तर में ही रहेंगे और यहां सरकारी योजनाओं की ज़मीनी हकीकत के हालात का जायजा लेंगे।

सीएम बस्तर में हों और यहां से एकलौते मंत्री और कद्दावर नेता कवासी लखमा उनके साथ ना हों, ये मुमकिन नहीं है। मुख्यमंत्री के  हमकदम बनकर कवासी पूरे दौरे में उनके साथ रहेंगे और बस्तर को बूझने में सीएम की मदद भी करेंगे। दोनों की जुगलबंदी का नजारा कोंटा में भी देखा गया, जब कवासी लखमा मुख्यमंत्री के दुभाषिए के रूप में नजर आए।

– अस्पताल का निरीक्षण करते सीएम भूपेश बघेल।

दरअसल, सीएम भूपेश बघेल बुधवार को कोंटा के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पहुंचे थे। यहां उनकी नजर एक बुजुर्ग पर पड़ी, जो बीमार था। मुख्यमंत्री बघेल मरीज के पास बैठ गए और उससे हालचाल जानने चर्चा शुरू की। 

यह भी पढ़ें :  कामकाज कैसा है, देखा जिला पंचायत CEO ने... अंदरूनी गांवों में निरीक्षण, पंचायत सचिवों को दी हिदायत

सीएम ने जब मरीज से हिंदी में पूछा, ‘कहां से आए हो।’ ये सुनकर जब बुजुर्ग ने जवाब नहीं दिया तो सीएम ने मंत्री कवासी लखमा की ओर इशारा कर कहा कि इससे हालचाल पूछो। कवासी ने गोंडी में बातचीत शुरू की और पूछा कि ‘कहां से आए हो’। इसके बाद सीएम मरीज से सवाल पूछते गए और कवासी उसे गोंडी में बताते रहे।

– मरीज से चर्चा करते सीएम और मंत्री लखमा।

सीएम भूपेश बघेल ने पूछा कि ‘कैसा लग रहा है’। तब मरीज ने बताया कि उसे बुखार है और वह इलाज के लिए आया है। सीएम को जब पता चला कि बुजुर्ग मरीज बुखार के बावजूद एक सप्ताह बाद अस्पताल पहुंचा है तो उन्होंने सवाल किया कि ‘8 दिन क्यों रूक गए’। और कहा कि ‘अच्छे से इलाज कराओ’।

यह भी पढ़ें :  पूर्व मंत्री महेश गागड़ा का आरोप, धान खरीदी पर भूपेश सरकार की मंशा साफ नहीं... 4 के बदले 1 लाख बारदाने का ही किया टेण्डर, ठगे रह गए किसान

इस वाक्ये को खुद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सोशल मीडिया पर शेयर किया है। सीएम ने अपने ट्वीटर हैंडल पर लिखा- ‘आज आदरणीय कवासी लखमा जी हमारे दुभाषिया (Interpreter) हैं।’