जब सबके सामने लड़की ने पकड़ लिया CM भूपेश का कॉलर… बघेल भी रह गए हक्के बक्के !

2917

जब सबके सामने लड़की ने पकड़ लिया CM भूपेश का कॉलर… बघेल भी रह गए हक्के बक्के !

कांकेर @ खबर बस्तर। क्या कभी ऐसा हो सकता है कि तमाम सुरक्षा व्यवस्था के बीच भी कोई मुख्यमंत्री का कॉलर पकड़ ले और मुख्यमंत्री कार्रवाई करने की बजाए बदले में जमकर ठहाके लगाएं।

सीएम भूपेश बघेल अपने दिलखुश मिजाज के लिए जाने जाने जाते हैं। हंसी मजाक का कोई भी पल वे अपने हाथों से जाने नहीं देते हैं। ऐसा ही कुछ हुआ कांकेर विधानसभा के बादल ग्राम के आंगनबाड़ी केंद्र में जब उन्होने एक बच्ची को गोंद में उठाया।

यह भी पढ़ें :  दंतेश्वरी मंदिर में हुई 600 साल पुराने त्रिशूल की पूजा... 'आमा मऊड़' रस्म के साथ फागुन मंडई का आगाज

बच्ची जैसे ही सीएम की गोंद में पहुंची, उसने मुख्यमंत्री का कालर पकड़ लिया। इसके बाद बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि इसने तो सीधा मुख्यमंत्री का ही कॉलर पकड़ लिया और जमकर ठहाके लगाए।

इसके बाद सीएम बघेल ने बच्ची को अपने हाथों के पंजे पर उठा लिया और बच्ची को अपने हाथों से चाकलेट भी खिलाया। मुख्यमंत्री के इस खुशमिजाज रूप को देखकर हर किसी के चेहरे पर मुस्कुराहट फैल गई।

इसके बाद मुख्यमंत्री आंगनबाड़ी के रसोई में भी पहुंचे और अपने हाथों से माता और शिशुओं को मिलने वाले गर्म भोजन का निरीक्षण किया।

यह भी पढ़ें :  आर्थिक नाकेबंदी: नक्सल समस्या का स्थायी हल भी चाहते हें आदिवासी… सिलगेर के दोषियों पर एफआईआर की मांग दोहराई

बच्चों के साथ बच्चे बने मुख्यमंत्री

सीएम भूपेश बघेल का यह अंदाज है कि वो जिनके बीच होते हैं, उन्हीं की तरह अपनी शैली अपना लेते हैं। यही कारण है कि वे हर वर्ग के बीच चहेते बन जाते हैं। ऐसा ही नजारा रविवार को भेंट-मुलाकात अभियान के दौरान कांकेर विधानसभा के ग्राम बादल में देखने को मिला।

When the girl caught CM Bhupesh's collar in front of everyone

दरअसल, सीएम भूपेश बघेल ग्राम बादल में आंगनबाड़ी केन्द्र का निरीक्षण करने पहुंचे थे। इस दौरान नन्हे बच्चों को देखकर उनके बीच जा पहुंचे और बच्चों से किसी छोटे बच्चे की तरह ही उनकी शैली में बातचीत करने लगे। उनके इस अंदाज से आंगनबाड़ी में मौजूद बच्चे भी सहज हो गए और खुलकर उनसे बातचीत की।

यह भी पढ़ें :  कोरोना के केस बढ़े, महिला योद्धा हो गईं एक्टिव... पांच स्पेशल वैक्सिनेशन सेंटर खोले गए

सीएम ने बच्चों से छत्तीसगढ़ी में बातचीत करते हुए पूछा कि आंगनबाड़ी में क्या-क्या पढ़ाया जाता है। एक बच्ची ने बिना झिझक उन्हें एबीसीडी सुनाई। इसके अलावा बच्चों ने सीएम को कविताएं और गीत भी सुनाए। नन्हें बच्चों को सुनकर मुख्यमंत्री ने खुद ताली बजाई और वहां मौजूद लोगों से तालियां बजवायीं और बच्चों का उत्साह बढ़ाया।