पार्षद की बेरूखी से पानी की किल्लत, फरियाद लेकर कलेक्टोरेट पहुंची महिलाएं… कुंए और नाले सूख गए, पानी टैंकर भी नहीं आता

300

पार्षद की बेरूखी से पानी की किल्लत, फरियाद लेकर कलेक्टोरेट पहुंची महिलाएं… कुंए और नाले सूख गए, पानी टैंकर भी नहीं आता

पंकज दाऊद @ बीजापुर। शांतिनगर के चट्टानपारा के लोग इन दिनों एक ओर तो भीषण गर्मी की मार झेल रहे हैं, तो दूसरी ओर पार्षद पुरूषोत्तम सल्लूर की बेरूखी से ना तो यहां बोर खोदा जा रहा है और ना ही पानी टैंकर आ रहा है।

चट्टानपारा की महिलाएं अपनी व्यथा सुनाने कलेक्टोरेट सोमवार को आई थीं। उन्होंने बताया कि वहां जो कुंए हैं, वे सूख गए हैं। नाले के पानी से नहाया करते थे लेकिन वह भी अब गंदा हो गया है। इससे खुजली होती है।

यह भी पढ़ें :  कलेक्टर बंगले में मचा हड़कंप, पेड़ पर लटकी मिली होम गार्ड की लाश
– कलेक्टोरेट पहुंची महिलाएं।

महिलाओं ने बताया कि उन्होंने अपनी समस्या विधायक, पालिका अध्यक्ष एवं पार्षद को बताई थी लेकिन कुछ नहीं हुआ। उनके मोहल्ले तक पहुंचने के लिए एक सड़क का भूमिपूजन विधायक विक्रम मण्डावी ने किया है। लेकिन इसका काम शुरू नहीं हुआ है।

इस सड़क के बनने से मोहल्ले तक पानी टैंकर पहुंच जाएगा। फिलहाल कच्ची सड़क बनाकर उनकी समस्या दूर की जा सकती है। पीने और नहाने के पानी के लिए मोहल्ले के लोगों को करीब डेढ़ किमी दूर पालिका कार्यालय के समीप जाना पड़ता है।

यह भी पढ़ें :  नक्सली कमांडर आयतु की कोरोना से मौत, अस्पताल में भर्ती कर लौट रहे 3 माओवादी गिरफ्तार

गर्मी में इतनी दूर जाना कष्टप्रद है। कलेक्टर से मिलने सोमवार को माधुरी, लच्छे, सोनी, रीना, कमली, सत्यवती, पुष्पा, अनिता, मालती आदि महिलाएं आईं थीं।