राशन कार्ड नवीनीकरण ग्रामीणों के लिए एक नई मुसीबत, गरीब तबका इस फरमान से परेशान- सकनी

86

बीजापुर @ खबर बस्तर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) ने आरोप लगाया है कि राशन कार्ड नवीकरण में पेचीदगियों के चलते अंदरूनी इलाके के गरीब ग्रामीण नई मुसीबत में फंस गए हैं। जेसीसी ने नवीकरण के सरलीकरण की मांग की है।

जेसीसी के जिला अध्यक्ष सकनी चंद्रैया ने कहा है कि राशन कार्ड के नवीनीकरण को लेकर भूपेश सरकार ने गांव के लोगों को सड़क पर लाकर खड़ा कर दिया है। एक ओर सूखे की मार और दूसरी ओर भूपेश सरकार की मार। नवीनीकरण के लिए महिलाओं को बैंक खाता खोलने, आधार कार्ड बनवाने और दफ्तरों के चक्कर लगाना पड़ रहा है।

यह भी पढ़ें :  दंतेवाड़ा MLA देवती कर्मा के 4 PSO समेत काफिले के 11 जवान कोरोना पॉजिटिव

कई महिलाएं 40 से 50 किमी दूर से आकर बैंक और आधार कार्ड का चक्कर अपने दुधमुंहे बच्चों को लेकर लगा रही हैं। भीड़ और जानकारी के अभाव में काम एक दिन में नहीं हो पाता है। जेसीसी अध्यक्ष ने कहा कि जिस जनता ने लाइन में खड़े होकर भाजपा के कुषासन से मुक्ति पाने कांग्रेस सरकार को चुना था, उसी कांग्रेस सरकार ने फिर से लोगों को लाइन पर खड़ा कर दिया है।

जेसीसी ने आरोप लगाया कि लोक सभा चुनाव में हार का बदला अब भूपेश सरकार जनता से ले रही है। भाजपा और कांग्रेस एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। दोनों गांव, गरीब और किसान विरोधी हैं।

कई लोगों के नहीं बने आधार कार्ड

यह भी पढ़ें :  अपहृत इंजीनियर और राज मिस्त्री को नक्सलियों ने रिहा किया... रंग लाई पत्नी और बेटी की अपील

सकनी चंद्रैया ने कहा कि जिले में 55954 लोगों ने आधार कार्ड नहीं बनाए है। यहां की आबादी 285448 है और इनमें से 229494 लोगों के आधार कार्ड बन गए हैं। अब गांव के गरीब लोग एक तय सीमा में आधार कार्ड बनवाने भटक रहे हैं। जिले में 61448 परिवारों के पास राषन कार्ड है।

इनमें से 24968 गुलाबी, 36435 नीला एवं 45 हरे राशन कार्ड हैं। जिले में राशन कार्ड के नवीनीकरण के लिए 15 से 29 जुलाई तक शिविरों को आयोजन किया जा रहा है। जेसीसी का आरोप है कि कम समय में नवीकरण की अनिवार्यता से सभी परेशान हैं।

यह भी पढ़ें :  उसूर को मिला राजस्व अनुविभाग का दर्जा, सीएम भूपेश ने की घोषणा... अब चक्करदार रास्ते खत्म