पूर्व मंत्री के आरोपों से सरपंच संघ खफा… सफाई देते कहा- मनरेगा के काम मशीनों से नहीं हो रहे, माफी मांगें भाजपा नेता

38

पूर्व मंत्री के आरोपों से सरपंच संघ खफा… सफाई देते कहा- मनरेगा के काम मशीनों से नहीं हो रहे, माफी मांगें भाजपा नेता

पंकज दाउद @ बीजापुर। पूर्व मंत्री महेश गागड़ा के पंचायतों में मनरेगा के कामों में मशीनों के इस्तेमाल के आरोपों पर सरपंच संघ ने सफाई देते कहा है कि ये बात सरासर गलत है और इसके लिए भाजपा नेता को माफी मांगनी चाहिए।


यहां सरपंच संघ के अध्यक्ष जगबंधू मांझी ने पत्रकारों से चर्चा में कहा कि सरपंचों पर भ्रष्टाचार का आरोप गलत है। सरपंच ईमानदार हैं और पंचायत के कामों में गड़बड़ी नहीं हो रही है। मनरेगा के काम मशीनों से कतई नहीं हो रहे हैं और लोगों को रोजगार गांव में ही मिल रहा है।

यह भी पढ़ें :  मोदी राज में कमर तोड़ रही महंगाई, पेट्रोल-डीजल के दाम में लगी आग... महंगाई के खिलाफ कांग्रेसियों का हल्ला बोल

जगबंधू मांझी एवं पत्रवार्ता में मौजूद करीब दर्जनभर सरपंचों ने आरोप लगाया कि जब महेश गागड़ा मंत्री थे, तब उन्हें ये बात नहीं दिखी और जब वे पद से हट गए हैं, तो उन्हें ये सब दिख रहा है। सरपंच संघ ने कहा कि सात दिवस के अंदर यदि महेश गागड़ा माफी नहीं मांगेंगे तो सरपंच उनका विरोध करेंगे और गांव के लोग भाजपा के कार्यक्रमों में शिरकत नहीं करेंगे।

मौके पर मौजूद तमलापल्ली की सरपंच कमला पोटाम ने कहा कि उनके गांव में मशीनों से काम करने का आरोप लगाया गया है जबकि ऐसा नहीं है। गांव के करीब 350 लोगों के पास जाॅब कार्ड है और उन्हें मनरेगा में रोजगार मिला है। गांव के चंद भाजपा समर्थक लोगों ने पूर्व मंत्री को ये बात बताई और फिर पूर्व मंत्री ने ऐसा आरोप लगाया।

यह भी पढ़ें :  कांग्रेस ने BJP से छीनी दंतेवाड़ा सीट, लहराया जीत का परचम... देवती कर्मा ने ओजस्वी मण्डावी को 11 हजार वोटों से हराया

मशीनों से आज भी काम चलने के सवाल पर सरपंच संघ के अध्यक्ष जगबंधू मांझी ने कहा कि ऐसी शिकायत मिलने पर कार्रवाई की जाएगी। अब तक उनके पास ऐसी बात सामने नहीं आई है।

गागड़ा अपनी बात पर अडिग

इधर, छग के पूर्व वन मंत्री महेश गागड़ा अपनी बात पर अडिग हैं और उन्होंने कहा कि है कि तालाब के काम मशीनों से किए जा रहे हैं। ये बात बिलकुल सच है। उन्होंने कहा कि मस्टर रोल में दर्ज मजदूरों के नाम और उन्हें मिली राशि को सार्वजनिक किया जाना चाहिए। कार्यों का सामाजिक मूल्यांकन नहीं किया जा रहा है। इससे बात स्पष्ट हो जाएगी। उन्होंने कहा कि पंचायत में भ्रष्टाचार की बात किसी से छिपी नहीं है।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…
यह भी पढ़ें :  SBI ब्रांच में कोरोना विस्फोट, 14 में से 9 कर्मचारी निकले पाॅजीटिव... ऑटो पार्ट्स की 2 दुकानें सील, शिक्षक व सचिव की कोरोना से मौत

खबर बस्तर के WhatsApp ग्रुप में जुड़ने के लिए इस Link को क्लिक कीजिए…