बस्तर की गोंडी भाषा को मिली अंतरराष्ट्रीय पहचान… Google ने तैयार किया यूनिकोड फॉन्ट, अब गोंडी में टाइप भी कर सकेंगे

180

बस्तर की गोंडी भाषा को मिली अंतरराष्ट्रीय पहचान… Google ने तैयार किया यूनिकोड फॉन्ट , अब गोंडी में टाइप भी कर सकेंगे

जगदलपुर @ खबर बस्तर। बस्तर में आदिवासियों द्वारा बोले जाने वाली गोंडी भाषा को नई पहचान मिली है। गोंडी का शुमार अब उन अंतरराष्ट्रीय भाषाओं में हो गया है, जिनका यूनीकोड मौजूद है।

दरअसल, गोंडी भाषा को लिपिबद्ध कर गूगल ने इसका यूनीकोड फॉन्ट भी तैयार कर लिया है। इसके साथ ही अब गोंडी भाषा मोबाइल और इंटरनेट पर आसानी से टाइप की जा सकेगी।

यह भी पढ़ें :  43 सरपंचों का नहीं होगा चुनाव, 7 जनपद सदस्य भी निर्विरोध... जिला पंचायत सदस्य के 10 पदों के लिए 38 उम्मीदवार चुनावी समर में

Read More: पूर्व MLA के भाई के यहां शौचालय नहीं, SDM ने सरपंच को जारी किया नोटिस

गोंडी को अंतरराष्ट्रीय पहचान देने का काम गूगल और न्यूजीलैंड की एक कंपनी ने किया है। इस काम में मदद करने वाले शुभ्रांशु चौधरी ने बताया कि शुक्रवार को गूगल द्वारा गोंडी यूनीकाेड फॉन्ट का ऑनलाइन इनोग्रेशन किया गया।

– यूनीकोड फॉन्ट जारी करने के दौरान उपस्थित लोग

इस दौरान तेलंगाना के सिदाम अरजु, न्यूजीलैंड के मार्क पैनी, गूगल से क्रेक कोरनेलियस और देवांश मेहता मौजूद थे। चौधरी ने बताया कि इंटरनेट पर यूनीकोड फॉन्ट के उपलब्ध होने से गोंडी भाषा का खासा विस्तार होगा।

यह भी पढ़ें :  सड़क निर्माण में लगे रोड रोलर में नक्सलियों ने की आगजनी

बोलने के साथ लिखना हुआ आसान

बता दें कि अब तक गोंडी भाषा सिर्फ बोली जाती थी, लेकिन अब इसे लिखा भी जा सकेगा। खासतौर पर यूनीकोड फॉन्ट के जरिए इसका उपयोग करना अब आसान होगा। गूगल पर यूनीकोड मौजूद होने से युवा भी गोंडी की ओर आकर्षित होंगे।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…