बिजली टाॅवर पर चढ़ा मूक बधिर युवक, तार से चिपकने से मौत… 20 घंटे बाद टाॅवर से उतारा गया शव

26

बिजली टाॅवर पर चढ़ा मूक बधिर युवक, तार से चिपकने से मौत… 20 घंटे बाद टाॅवर से उतारा गया शव

पंकज दाऊद @ बीजापुर। यहां से करीब 17 किमी दूर नैमेड़ गांव में रविवार की शाम करीब 6 बजे कांकेर जिले का एक मूक बधिर युवक सीएसईबी के एक्स्ट्रा हाई टेंशन लाइन के टाॅपर पर चढ़ गया और इससे तार से चिपककर उसकी मौत हो गई।

सूत्रों के मुताबिक कांकेर जिले के नरहरपुर ब्लाॅक के चंवाड़ गांव का युवक देवानंद उइके अपने पिता बिसालीराम के साथ एरमनार जाने के लिए नैमेड़ पहुंचा और शाम पांच बजे बस से उतर गया। वहां से इन्हें पैदल एरमनार उनके मामा के धर जाना था लेकिन देवानंद ने अपना बैग नैमेड़ चौक में ही छोड़ दिया और कहीं चला गया।

यह भी पढ़ें :  छग-आंध्र बार्डर पर नक्सलियों के खिलाफ ग्रामीणों ने निकाली रैली, नक्सलवाद के खात्मे के लगाए नारे

पिता बिसालीराम उसे ढूंढने लगे क्योंकि देवानंद मूक बधिर तो था ही उसकी मानसिक हालत भी ठीक नहीं थी। कुछ देर बाद नैमेड़ चौक से करीब ढाई किमी दूरी पर गांव में ही टाॅवर से बिजली के चटकने की आवाज आई। लोगों ने देखा कि टाॅवर पर एक युवक चिपक गया है।

इसकी सूचना गांव के कोटवार को दी गई। फिर इसकी सूचना नैमेड़ थाने व सीएसईबी को दी गई। चंवाड़ गांव के मुखिया खम्मन सिंह कांगे ने बताया कि देवानंद का भाई हेमंत भी मूक बधिर है लेकिन वह नैमेड़ नहीं आया।

यह भी पढ़ें :  मांई दंतेश्वरी को चढ़ावे में मिले 50 लाख के ज़ेवर, इस परिवार ने भेंट किए 1 किलो स्वर्ण आभूषण

Read More:

 

खम्मन सिंह के मुताबिक जैसे ही इसकी खबर मिली, गांव के कई लोग नैमेड़ आ गए। उनके मुताबिक हर साल बिसालीराम का परिवार एरमनार आता है। सोमवार की दोपहर बिजली कंपनी के लोगों के आने पर शव को उतारा गया और फिर पीएम के लिए जिला हाॅस्पिटल भेजा गया।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…
यह भी पढ़ें :  जन अदालत: नक्सलियों ने पिता के सामने ही बेटे की ले ली जान... कई ग्रामीण अभी भी माओवादियों के कब्जे में: सूत्र


खबर बस्तर के WhatsApp ग्रुप में जुड़ने के लिए इस Link को क्लिक कीजिए…