मिट्टी जिंदा है, इसे दूषित ना करें… मृदा दिवस पर भोपालपटनम में लगी कार्यशाला

66

मिट्टी जिंदा है, इसे दूषित ना करें… मृदा दिवस पर भोपालपटनम में लगी कार्यशाला

पंकज दाऊद @ बीजापुर। मिट्टी जिंदा है और पूरी दुनिया इस पर ही टिकी हुई है। इसे दूषित करने से जीवन के खत्म होने का खतरा भी बढ़ जाएगा। भोपालपटनम में मृदा दिवस पर आयोजित कार्यषाला में वक्ताओं ने किसानों को ये बात बताई।

कृषि विज्ञान केन्द्र की ओर से आयोेिजत इस कार्यशाला में वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं प्रमुख अरूण संकनी ने मिट्टी के प्रकार के बारे में चर्चा की। उन्होंने बताया कि मिट्टी में अठारह प्रकार के पोषक तत्व होते हैं और इसमें तीन तत्व एनपीके सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण हैं। सारे पेड़, पौधे और फसल इस पर ही जिंदा हैं। मिट्टी को प्रदूषण से बचाने की जिम्मेदारी हर एक व्यक्ति की है।

यह भी पढ़ें :  महेश गागड़ा भी उतरे प्रचार में, बोले- बीजापुर पालिका भाजपा की देन, भूपेश सरकार में लोग ठगे गए

इस मौके पर वैज्ञानिक अरविंद आयाम ने स्व सहायता समूह की महिलाओं को मशरूम उत्पादन का प्रषिक्षण दिया। कार्यशाला में लक्ष्मी स्व सहायता समूह चेरपल्ली, इंद्रावती महिला समूह लिंगापुर, वैष्णवी स्वसहायता समूह मद्देड़, दुर्गा स्वसहायता समूह वंगापल्ली, सरस्वती समूह वंगापल्ली, लक्ष्मी स्व सहायता समूह मिनकापल्ली, दंतेष्वरी स्व सहायता समूह मिनकापल्ली, शारदा स्वसहायता समूह उसकालेड़ एवं दुर्गा स्वसहायता समूह मुन्नालापेटा के सदस्य मौजूद थे।

इस मौके पर एसएडीओ योगेश नाग ने सरकारी योजनाओं की जानकारी दी। मौसम विज्ञानी भीरेन्द्र कुमार ने ग्रामीण कृषि मौसम सेवा परियोजना से किसानों को अवगत करवाया। इस मौके पर जिला परियोजना निदेषक श्रीमती उषा दुर्गम, एडीओ जीआर गोड़बोले एवं अन्य अधिकारी मौजूद थे।

यह भी पढ़ें :  ट्रेनिंग के दौरान एसआई की हार्ट अटैक से हुई मौत, गृहग्राम में राजकीय सम्मान के साथ ​हुआ अंतिम संस्कार