CRPF में बस्तर के 400 युवाओं की होगी भर्ती, 8वीं पास युवा भी बन सकेंगे कांस्टेबल

12478
400 youth of Bastar will be recruited in CRPF

CRPF में बस्तर के 400 युवाओं की होगी भर्ती, 8वीं पास युवा भी बन सकेंगे कांस्टेबल

जगदलपुर @ खबर बस्तर। बस्तर के बेरोजगार युवाओं के लिए केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल में भर्ती का सुनहरा मौका है। सीआरपीएफ 400 जवानों की भर्ती करने जा रही है, जिसमें नक्सल प्रभावित इलाकों के युवाओं को ही भर्ती का मौका मिलेगा।

जानकारी के मुताबिक, सीआरपीएफ ने दक्षिण बस्तर के दंतेवाड़ा, बीजापुर और सुकमा जिले में वहीं के स्थानीय 400 जवानों की भर्ती करने का फैसला किया है। इन जवानों की तैनाती बस्तर में ही होगी। सीआरपीएफ में ऐसा पहली बार होगा।

यह भी पढ़ें :  नक्सलियों ने बीच बाजार युवक को मार दी गोली, पुलिस मुखबिरी के आरोप में एक और हत्या

सीआरपीएफ कांस्टेबल भर्ती 2022 के लिए केंद्र सरकार ने मंजूरी दे दी है। वहीं इस भर्ती के लिए नियम भी बदले गए हैं। इस भर्ती प्रक्रिया में CRPF दक्षिण बस्तर के सिर्फ 3 जिलों के मूल जनजातीय युवाओं को ही मौका देगी।

8वीं पास उम्मीदवारों को भी मौका

खास बात ये है कि बस्तर में होने वाली इस भर्ती के लिए सीआरपीएफ द्वारा जवानों की शैक्षणिक योग्यता में भी कमी की गई है। इस भर्ती के लिए उम्मीदवारों का 8वीं कक्षा में उत्तीर्ण होना जरूरी है। हालांकि, सीआरपीएफ भर्ती के लिए अभ्यर्थी का कम से कम 10वीं पास होना जरूरी होता है।

यह भी पढ़ें :  दंतेवाड़ा में पुलिस-नक्सली मुठभेड़: 20 मिनट चली गोलीबारी के बाद भाग खड़े हुए नक्सली, दो जवान घायल

कश्मीर की तर्ज पर होगी भर्ती

अधिकारियों ने बताया कि हम नक्सलियों के खिलाफ बस्तर के स्थानीय नौजवानों को सीआरपीएफ में भर्ती करने जा रहे हैं। कश्मीर में स्थानीय युवाओं को सेना में शामिल करने का फायदा देखने को मिला है। इसी फॉर्मूले के तहत बस्तर में भी सीआरपीएफ जवानों की भर्ती की जाएगी।

400 youth of Bastar will be recruited in CRPF

इस भर्ती से स्थानीय युवाओं को रोजगार तो मिलेगा ही साथ ही फोर्स को भी नक्सलियों से मुकाबला करने में मदद मिलेगी। बताया गया है कि सीआरपीएफ में बस्तर के लोकल युवाओं को भर्ती करने संबंधी प्रस्ताव पिछले साल भेजा गया था, जिसपर केन्द्र सरकार ने हरी झंडी दिखा दी है।

यह भी पढ़ें :  कोरोना पॉजिटिव जवान ने संजीवनी 108 की महिला स्टॉफ से की बदसलूकी, PPE किट फाड़ने का भी आरोप... शिकायत के बाद FIR दर्ज

नक्सलियों का कोर इलाका है दक्षिण बस्तर

आपको बता दें कि दक्षिण बस्तर नक्सलियों का सुरक्षित ठिकाना माना जाता है। यह नक्सलियों का कोर इलाका है। इसलिए सीआरपीएफ केवल इन्हीं तीन जिलों में फोकस कर वहां के मूल जनजातीय युवाओं की भर्ती कर रही है।