बस्तर की नक्सल घटनाओं पर राज्यपाल चिंतित, गृहमंत्री को लिखा पत्र

38
Governor Anusuiya Uike worried over Naxal incidents in Bastar

बस्तर की नक्सल घटनाओं पर राज्यपाल चिंतित, गृहमंत्री को लिखा पत्र

रायपुर @ खबर बस्तर। बस्तर में हाल के दिनों में हो रही नक्सल हिंसा को लेकर राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उईके भी चिंतित हैं। इस मसले पर गवर्नर ने प्रदेश के गृहमंत्री को पत्र लिखकर अपनी चिंता जाहिर की है।

राजभवन के सूत्रों के मुताबिक, बस्तर की नक्सली घटनाओं पर राज्यपाल अनुसुईया उईके ने चिंता जताते हुए गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू को एक चिट्ठी लिखी है। वहीं इस मसले पर उन्होंने एक समीक्षा बैठक भी बुलाई है। जिसमें गृह विभाग के उच्चाधिकारी भी शामिल होंगे।

यह भी पढ़ें :  मतदान से पहले दंतेवाड़ा में नक्सलियों ने किया IED ब्लास्ट, CAF का जवान घायल

जल्द होगी समीक्षा बैठक

नक्सली घटनाओं को लेकर राजभवन द्वारा गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू को पत्र जारी किया गया है। इस पत्र में नक्सली हिंसा के मद्देनजर समीक्षा बैठक आयोजित किए जाने का भी जिक्र किया गया है। फिलहाल, इस बैठक की तारीख तय नहीं है। माना जा रहा है कि गृहमंत्री द्वारा पत्र के जवाब के साथ ही बैठक की तारीख भी सामने आएगी।

Read More: जगदलपुर से सटे नगरनार इलाके में नक्सली घमक, ग्रामीण को उतारा मौत के घाट

बताया गया है कि राज्यपाल अनुसुईया उईके ने गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू को लिखे पत्र में प्रदेश में अचानक बढ़ी नक्सली घटनाओं के बारे में बिंदुवार आधार पर चर्चा व समीक्षा की बात कही है। सूत्र बता रहे हैं कि जल्द होने वाली बैठक में नक्सली हिंसा के कारणों की समीक्षा के साथ ही इसकी रोकथाम के लिए उठाए जाने वाले कदमों के बारे में विस्तार से चर्चा होगी।

यह भी पढ़ें :  किसी भी दुकान से यूनिफॉर्म खरीद सकते हैं विद्यार्थी, प्राचार्य को नोटिस बोर्ड में सूचना प्रदर्शित करना होगा

पूर्व सीएम ने लिखा था पत्र

बता दें कि राज्य में नक्सल घटनाओं में बढ़ोत्तरी को लेकर पूर्व सीएम डा. रमन सिंह ने हाल ही में राज्यपाल को पत्र लिखा था। जिसमें उन्होंने कहा था कि बस्तर संभाग में बीते कुछ महीनों में माओवादियों ने हिंसा व आतंक के जरिये दहशत का माहौल बनाया है। बस्तर में नक्सलियों ने ग्रामीण व पुलिसकर्मियों समेत कुल 76 लोगों की हत्याएं की हैं।

यह भी पढ़ें :  पीड़ितों की मदद को आगे आए मंत्री कवासी लखमा‚ मुख्यमंत्री सहायता कोष में दिया 1 लाख 30 हजार रूपये का दान

Read More: बस्तर की गोंडी भाषा को मिली अंतरराष्ट्रीय पहचान… Google ने तैयार किया यूनिकोड फॉन्ट, अब गोंडी में टाइप भी कर सकेंगे



खबर बस्तर के WhatsApp ग्रुप में जुड़ने के लिए इस Link को क्लिक कीजिए…


 

आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…