नक्सलियों ने कोरोना संकट पर पहली दफे जारी किया बयान… कोविड वॉरियर्स की तारीफ की और कहा, हाॅट स्पाॅट तक ही सीमित हो लाॅकडाउन

53
Naxalites issued statement on corona crisis for the first time

नक्सलियों ने कोरोना संकट पर पहली दफे जारी किया बयान… कोविड वॉरियर्स की तारीफ की और कहा, हाॅट स्पाॅट तक ही सीमित हो लाॅकडाउन

पंकज दाऊद @ बीजापुर। नक्सलियों ने पहली बार कोरोना संकट पर अपना मुंह खोलते हुए कोविड-19 वारियर्स की तारीफ की और कहा है कि रेड जोन व हाॅट स्पाॅट तक ही लाॅकडाॅउन को सीमित रखा जाना चााहिए। नक्सलियों ने छोटे व्यापारियों और मजदूरों के लिए इस संकटकाल में खास राहत पैकेज की भी मांग की है।

दक्षिण बस्तर सब जोनल ब्यूरो भाकपा (माओवादी) की ओर से भोपालपटनम ब्लाॅक के उल्लूर मार्ग पर फेंके गए पर्चे में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, स्वास्थ्य एवं सफाई कर्मियों का आभार मानते नक्सलियों ने कहा है कि इनकी सुरक्षा को प्राथमिकता दी जानी चाहिए।

यह भी पढ़ें :  पूर्व मंत्री महेश गागड़ा का आरोप: भूपेश सरकार में सुनने वाला कोई नहीं, दबाव में खबरें भी हो रही सेंसर

Read More: 

 

माओवादियों ने पर्चे में कहा है कि कोरोना संकट के बीच देश में सुरक्षा उपकरण कम हैं। सरकारें समझदारी की बजाए दमनात्मक नीति अपना रही है।

नक्सलियों ने कालाबाजारी पर काबू करने और लोगों तक रोजमर्रा की वस्तुओं की आपूर्ति की भी वकालत की है। पर्चे में कहा गया है कि कोराना मामले में आम जनता की राय भी सरकार को लेनी चाहिए। लाॅकडाउन को चरणबद्ध ढंग से बंद करना चाहिए।

यह भी पढ़ें :  नक्सलियों के कब्जे में जवान, बेटी की भावुक अपील- नक्‍सली अंकल! प्‍लीज़ मेरे पापा को घर भेज दो... पत्नी ने PM मोदी से लगाई गुहार, अभिनंदन की तरह मेरे पति को भी वापस ले आईए

Read More: 

 

नक्सलियों के सब जोनल ब्यूरो ने केन्द्र सरकार से वैक्सिन बनाने जल्द कदम उठाने की मांग की है और कहा है कि माओवादियों के शहरी नेटवर्क के नाम से गिरफ्तार प्रो आनंद तुमड़े, लेखक वरवरा राव, प्रो साईबाबा एवं सामाजिक कार्यकर्ता गौतम नवलखा को कोरोना के खतरे को देखते रिहा किया जाना चाहिए।

फर्जी मुठभेड़ का आरोप

भाकपा माओवादी की मद्देड़ एरिया कमेटी ने मिरतूर एवं पुसगुड़ी में हुई मुठभेड़ को फर्जी बताते इसकी जांच की मांग की है। वहीं दोषी पुलिसकर्मियों को सजा देने कहा है। पर्चे में नक्सलियों ने कई मुठभेड़ों को फर्जी बताया है और कहा है कि सरकारें जंगल पर कब्जा करना चाहती है और इसे पूंजीपतियों को सौंपने की तैयारी है।

यह भी पढ़ें :  महिला नक्सली के शव की सुपुर्दगी पर अटकी बात... गांव से पहुंची महिलाओं ने की शव की शिनाख्त, पुलिस ने कहा...

Naxalites issued statement on corona crisis for the first time

खास बात यह है कि नक्सलियों द्वारा जारी पर्चे में 20 अप्रैल 2020 की तारीख अंकित है। हालांकि, यह पर्चे हाल ही में भोपालपटनम-उल्लूर मार्ग पर फेंके गए हैं।

Read More: 

 

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…