बस्तर में ‘नक्सलवाद’ पर बन रही शॉर्ट फिल्म… हीरो के किरदार में दिखेंगे खुद SP, आत्मसमर्पित माओवादी और 100 जवान भी कर रहे अभिनय

4787

दंतेवाड़ा @ खबर बस्तर। बस्तर में नासूर बन चुके ‘नक्सलवाद’ पर पहली बार फिल्म बनने जा रही है। दंतेवाड़ा पुलिस द्वारा बनाई जा रही शॉर्ट फिल्म में एसपी डॉ अभिषेक पल्लव हीरो की भूमिका में दिखेंगे। सरेंडर कर हथियार डाल चुके माओवादी और पुलिस के 100 जवान भी इस फिल्म में विभिन्न किरदार निभा रहे हैं।

सच्ची घटनाओं का फिल्मांकन : 
पुलिस अफसरों के मुताबिक युवाओं को नक्सलियों की हकीकत बताने और इससे दूर रखने के मकसद से शॉर्ट फिल्म ‘नई सुबह का सूरज’ का निर्माण किया जा रहा है। फिल्म की पटकथा और गीत एडीशनल एसपी सूरज सिंह परिहार ने लिखे हैं। फिल्म में नक्सलवाद की सच्ची घटनाओं का फिल्मांकन किया गया है।

यह भी पढ़ें… PM मोदी ने CM भूपेश को लिखा खत, मां बिंदेश्वरी बघेल को लेकर कही ये बड़ी बात !

यह भी पढ़ें :  कांकेर जिले में 130 पदों पर निकली भर्ती, 29 मार्च को प्लेसमेंट कैम्प का आयोजन

फिलहाल दंतेवाड़ा के विभिन्न लोकेशन पर फिल्म की शूटिंग की जा रही है। फिल्म में पुलिस के 100 जवानों और आत्मसमर्पित नक्सलियों के अलावा रायपुर व भिलाई के कलाकार भी अभिनय कर रहे हैं। दंतेवाड़ा के बस स्टैण्ड में भी एक सीन की शूटिंग की गई है।

Read More :  भीमा मण्डावी हत्याकाण्ड में शामिल 5 लाख के इनामी नक्सली को DRG के लड़ाकों ने मुठभेड़ में मार गिराया… माओवादी का शव और हथियार बरामद, कई नक्सलियों के घायल होने का दावा

फिल्म में दिखेंगे नक्सली लीडर :   नक्सलवाद की असलियत बयां करने वाली इस निर्माणाधीन शॉर्ट फिल्म में नक्सलियों के कई बड़े लीडरों के किरदार भी दिखाई देंगे। इनमें माओवादी नेता गणपति, हिड़मा और हुंगी का मुख्य किरदार शामिल हैं। गणपति के रोल के लिए भिलाई के कलाकार का चयन किया गया है।

पुलिस अधीक्षक डॉ पल्लव के मुताबिक नक्सली स्थानीय ग्रामीणों और बच्चों का ब्रेनवाश करते आए हैं। अब पुलिस द्वारा इस फिल्म के जरिये नक्सलवाद की हकीकत जनता के बीच लाने की कोशिश की जा रही है। दरअसल, माओवाद को लेकर ज्यादातर बाहरी लोग ही लिखते या फिर फिल्म बनाते रहे हैं। उनका यह प्रयास वास्तविकता से दूर रहता है।

यह भी पढ़ें :  गोपनीय सैनिक के बुजुर्ग पिता की नक्सलियों ने की निर्मम हत्या... दफनाए शव को निकालकर पुलिस ने शुरू की जांच

बताया जा रहा है कि इस शॉर्ट फिल्म का प्रदर्शन जिले के स्कूलों, आश्रमों के अलावा ग्रामीण इलाकों में भी पंचायतों के माध्यम से किया जाएगा, ताकि नक्सलवाद की हकीकत से स्थानीयजन रूबरू हो सकें।

यह भी पढ़ें…  बर्थ कंट्रोल की जंग में अब ‘अंतरा’ और ‘छाया’ बने हथियार! जनसंख्या विस्फोट रोकने नई पहल, 45 हजार दंपत्ति हैं स्वास्थ्य विभाग के टारगेट में