आदिवासी क्षेत्रों में बनेंगे फलोद्यान, बटेर पालन भी होगा… ईटपाल में किसानों को दिया गया प्रशिक्षण

50

आदिवासी क्षेत्रों में बनेंगे फलोद्यान, बटेर पालन भी होगा… ईटपाल में किसानों को दिया गया प्रशिक्षण

पंकज दाउद @ बीजापुर। जिले के विभिन्न इलाकों में मातृत्व फलोद्यान की स्थापना की जाएगी और किसान बटेर पालन भी कर सकेंगे। इससे उनकी आय में दो गुनी बढ़ोतरी होगी।

ईटपाल में कृषि विज्ञान केन्द्र की ओर से आदिवासी उप योजना के तहत दो दिनी प्रशिक्षण किसानों को दिया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ केवीके के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं प्रमुख अरूण सकनी ने किया।

यह भी पढ़ें :  आंध्रप्रदेश में मिले कोरोना के नए स्ट्रेन से हड़कंप, CG के इस जिले में RT-PCR रिपोर्ट के बिना बाहरी लोगों का प्रवेश बैन...जानिए क्यों खतरनाक है कोरोना का नया वैरिएंट

उद्यानिकी वैज्ञानिक डाॅ कन्हैया लाल पटेल ने मातृत्व फलोद्यान के बारे में किसानों को विस्तार से जानकारी दी और वहां दो किसानों का चयन फलोद्यान के लिए किया गया। उनके खेतों में केवीके के मार्गदर्शन में फलोद्यान की स्थापना की जाएगी।

उप संचालक पशुधन सेवाएं डाॅ आनंद प्रकाश दोहरे एवं डाॅ सुरेश साहू ने उन्नत बटेर पालन के बारे में किसानों को तकनीकी जानकारी दी। केन्द्र के वैज्ञानिक वीरेन्द्र कुमार ने बटेर पालन की आवश्यकता और महत्व पर प्रकाश डाला। ईटपाल में बटेर पालन के लिए हितग्राहियों का चयन भी किया गया।

यह भी पढ़ें :  लाॅकडाउनः सड़ गई चार लाख की सब्जी‚ गांवों के आसपास होने लगी बिक्री

कार्यक्रम में ईटपाल के सरपंच जगबंधु मांझी ने भी संबोधित करते किसानों को सरकारी योजनाओं का लाभ लेने की अपील की। इस प्रशिक्षण में 110 किसान मौजूद थे और उन्होंने वैज्ञानिकों से अपनी समस्याएं बताईं। इस अवसर पर वैज्ञानिक बीके ठाकुर, अरविंद आयाम एवं डाॅ दिनेश मारावी मौजूद थे। किसानों को दो-दो फलदार पौधे रोपण के लिए दिए गए।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…
यह भी पढ़ें :  अपने ही पुराने साथी को ‘ढोकर’ ले गए नक्सली ! चन्नूराम ने 3 माह पहले किया था सरेंडर

खबर बस्तर के WhatsApp ग्रुप में जुड़ने के लिए इस Link को क्लिक कीजिए…