पंचायत के कामों में गड़बड़ी, मशीनों से हो रहा काम- गागड़ा

32

पंचायत के कामों में गड़बड़ी, मशीनों से हो रहा काम- गागड़ा

पंकज दाउद @ बीजापुर। भाजपा ने आरोप लगाया है कि पंचायत के कामों में भारी धांधलेबाजी हो रही है। मषीनों से काम लिए जाने से मजदूर अब मिर्च तोड़ने तेलंगाना जाने मजबूर हो गए हैं। ये काम कांग्रेसी नेता ले रहे हैं और नगद भुगतान कर रहे हैं।

यहां पत्रकारों से चर्चा में पूर्व वन मंत्री महेश गागड़ा, भाजपा जिलाध्यक्ष श्रीनिवास राव मुदलियार, वरिष्ठ भाजपा नेता घासीराम एवं सत्येंद्र सिंह ठाकुर ने बताया कि कुछ दिनों पहले उन्होंने भोपालपटनम ब्लाॅक के तमलापल्ली पंचायत का दौरा किया था और लोगों से बात की।

लोगों ने बताया कि एक साल पहले मंजूर कई काम शुरू नहीं हो पाए हैं और जो शुरू किए गए हैं, वे अधूरे हैं। मनरेगा के काम में पोकलेन एवं जेसीबी का इस्तेमाल हो रहा है। इससे मजदूरों को काम नहीं मिल पा रहा है। इस ओर प्रशासन आंख मूंदे हुए है।

यह भी पढ़ें :  नक्सलियों ने शांति वार्ता को लेकर जारी किया प्रेसनोट, सरकार के सामने रखी ये मांगे!

पूर्व मंत्री महेश गागड़ा ने कहा कि चूंकि मनरेगा की राशि केन्द्र से आती है, इसलिए वे इस मसले को लोक सभा में उठाएंगे। इधर, विधानसभा का सत्र चल रहा है। इसमें भी इस मामले को भाजपा उठाएगी। प्रशासन के आंख मूंद लेने से मजदूरों को काम नहीं मिल पा रहा है और वे पड़ोसी प्रांत तेलंगाना में मिर्च तोड़ने जा रहे हैं।

गागड़ा ने कहा कि दीगर जिलों एवं राज्यों के ट्रैक्टर भी तालाब खोदने के लिए मंगाए गए हैं। पूर्व मंत्री ने कहा कि मनरेगा के काम का सामाजिक मूल्यांकन होना चाहिए। इसमें विपक्षी दल के प्रतिनिधियों और मीडिया की मौजूदूगी होनी चाहिए ताकि मूल्यांकन पारदर्शी हो।

यह भी पढ़ें :  सप्ताहिक बाजार में नक्सलियों ने की सहायक आरक्षक की हत्या... थाने के करीब वारदात को दिया अंजाम

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि जिला पंचायत अध्यक्ष नियमों के तहत ठेकेदारी नहीं कर सकते। निर्वाचित होने के बाद उन्हें लाइसेंस जमा करना होता है। छग के बजट पर उन्होंने कहा कि इससे ना तो किसानों और ना ही बेरोजगारों को लाभ है। सरकारी कर्मचारी भी ठगे से रह गए हैं।

चावल में घपलेबाजी

कोरोना काल में अप्रैल से नवंबर तक का चावल केन्द्र से भेजा गया था। इसे गरीबों को मुफ्त में देना था लेकिन दो माह का चावल ही दिया गया। सोसायटी संचालकों का कहना है कि ये चावल डीडी जमा करने पर मिला। पूर्व मंत्री महेश गागड़ा ने आरोप लगाया कि केन्द्र के चावल के वितरण में बड़ी धांधली हुई है।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…
यह भी पढ़ें :  कैम्प के विरोध में सिलगेर में डटे हैं 10 हजार से अधिक ग्रामीण... राशन पानी ले लोगों का जमावड़ा, बड़े विरोध के संकेत

खबर बस्तर के WhatsApp ग्रुप में जुड़ने के लिए इस Link को क्लिक कीजिए…