हड़ताली NHM कर्मचारियों पर गिरी गाज, कलेक्टर ने 12 कर्मियों को नौकरी से निकाला

99
Collector separates 12 striking NHM employees from service

हड़ताली NHM कर्मचारियों पर गिरी गाज, कलेक्टर ने 12 कर्मियों को नौकरी से निकाला

दंतेवाड़ा @ खबर बस्तर। कोरोना संकट काल में आंदोलन कर रहे कर्मचारियों पर जिला प्रशासन ने सख्त कार्रवाई की है। कलेक्टर दीपक सोनी ने हड़ताल में बैठे 12 एनएचएम कर्मचारियों को तत्काल प्रभाव से सेवा से पृथक करने की कार्यवाही की है।

Read More:

 

बता दें कि हड़ताल में बैठे कर्मचारियों को अपने कार्य में उपस्थित होने निर्देशित किया गया था। इसके बावजूद अधिकारी-कर्मचारी द्वारा समयावधि में उपस्थित नहीं होने के फलस्वरूप छग शासन सामान्य प्रशासन विभाग (शासकीय कर्मचारी कल्याण शाखा) के प्रावधानों के अनुसार उक्त कार्रवाई की गई।

यह भी पढ़ें :  नक्सलियों में भी अब कोरोना की दहशत, बैनर में लिखा- कोरोना का संक्रमण रोकने जवानों को दूर भगाओ... ग्रामीणों से की ये अपील !

Read More: नक्सली वारदात: पत्नी को जान से मारने की धमकी दी और घर के सामने ही किसान की कर दी हत्या… दो दिन पहले ही वारंगल से लौटा था मृतक

कलेक्टर द्वारा जिन कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की है, उनमें भूपेन्द्र कुमार साहू डाटा एंट्री ऑपरेटर, विनीता एक्का एफएलए मलेरिया शाखा सीएचएमओ ऑफिस, मेघ प्रकाश शेरपा प्रोग्राम एसोसिएट पीपीएम, सूरज सिंह प्रोग्राम एसोसिएट टीबी एचआईवी टीबी नियंत्रण कार्यक्रम शाखा सीएचएमओ दंतेवाड़ा, मोहन सिंह ठाकुर डाटा एंट्री ऑपरेटर, सुरेंद्र देवांगन लैब टेक्नीशियन, छत्र ध्वज साहू लेखापाल, जय विजय नाग डाटा एंट्री ऑपरेटर सीएचएमओ ऑफिस, कुमारी श्वेता सोनी डाटा एंट्री ऑपरेटर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र गीदम, अजय बघेल डाटा एंट्री ऑपरेटर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र कटेकल्याण, राजू खटकर लैब टेक्नीशियन ब्लड बैंक जिला चिकित्सालय व संगीता नाग एएनएम उप स्वास्थ्य केन्द्र बोदली शामिल हैं।

यह भी पढ़ें :  26 जनवरी पर CM बघेल का ऐलान... सरकारी दफ्तरों में अब 5 दिन काम करेंगे कर्मचारी, श्रमिकों की बेटियों को मिलेंगे 20 हजार... बस्तर में शहीद गुंडाधूर के नाम पर बनेगी तीरंदाजी अकादमी

Collector separates 12 striking NHM employees from service

गौरतलब है कि प्रदेश में छग अत्यावश्यक सेवा संधारण तथा विछिन्नता निवारण अधिनियम 1979 लागू किया गया है, जिसमें स्वास्थ्य सेवाओं में कार्य करने से इंकार किये जाने को पूर्णतः प्रतिबंधित किया गया है।

Read More:

 

यह भी पढ़ें :  BIG BREAKING: गृहमंत्री अमित शाह ने धारा 370 हटाने का संकल्प पेश किया... जम्मू-कश्मीर और लद्दाख अलग-अलग केंद्र शासित प्रदेश होंगे

एस्मा अधिनियम का उल्लंघन किये जाने की स्थिति में दण्डात्मक कार्यवाही का प्रावधान के तहत और उक्त कृत्य के लिए सिविल सेवा आचरण नियंत्रण 1966 के प्रावधानों के तहत उक्त कर्मचारियों को शासकीय सेवा से तत्काल प्रभाव से सेवा से पृथक किया गया है।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…