दंतेवाड़ा में शुरू होगा कम्युनिटी रेडियो, आवाज से बदलेगी लोगों की जिंदगी

825

दंतेवाड़ा में शुरू होगा कम्युनिटी रेडियो, आवाज से बदलेगी लोगों की जिंदगी

दंतेवाड़ा @ खबर बस्तर। दक्षिण बस्तर दंतेवाड़ा जिले में एक और नई पहल होने जा रही है। जल्द ही जिले में कम्युनिटी रेडियो सेवा का शुभारंभ होने जा रहा है, जिसके जरिये स्थानीय प्रतिभाओं को नया मंच मिलेगा वहीं क्षेत्र की संस्कृति, कला व पर्यटन का भी प्रचार प्रसार होगा।

जिला प्रशासन की पहल पर दंतेवाड़ा में कम्युनिटी रेडियो स्टेशन की स्थापना की जा रही है। आदिवासी बाहुल्य यह क्षेत्र पुरातात्विक स्थलों एवं सांस्कृतिक रूप से समृद्ध है। यहां के पुरातात्विक स्थलों, संस्कृति, लोक नृत्य, लोक गीत के संरक्षण एवं संवर्धन और शासन-प्रशासन की समस्त योजनाओं को हितग्राहियों तक प्रसारित करने के लिए कम्युनिटी रेडियो की स्थापना की जा रही है।

यह भी पढ़ें :  जिला अस्पताल में उड़ रही सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां, जिपं अध्यक्ष ने किया औचक निरीक्षण तो खामियां हुई उजागर...एक बेड पर सोते दिखे दो मरीज, मास्क भी गायब!

स्थानीय भाषा-बोली को मिलेगा बढ़ावा

कम्युनिटी रेडियो में लोकगीतों के माध्यम से न सिर्फ संस्कृति का प्रचार-प्रसार किया जाएगा, बल्कि समस्त शासकीय योजनाओं का स्थानीय भाषा हल्बी, गोंड़ी बोली में प्रसारित कर जन-जन तक पहुंचाया जाएगा। स्थानीय कला एवं संस्कृति के क्षेत्र को बढ़ावा मिलेगा। साथ ही मौसम से संबंधित समस्त विषयों का प्रसारण किया जाएगा।

कृषि वैज्ञानिकों का और किसानों का आपसी संपर्क बहुत ही कम हो पाता है लेकिन अब कम्युनिटी रेडियो स्टेशन की की स्थापना से किसानों को फसलों से सबंधित उन्नत तकनीकों से सबंधित नवीनतम जानकारी पहुंचाने में आसानी होगी। साथ ही किसान कृषि सबंधित विषयों पर सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त कर सकेंगे।

यह भी पढ़ें :  देवती-ओजस्वी सहित 6 प्रत्याशियों को शोकॉज नोटिस जारी... निर्वाचन व्यय की जानकारी नहीं देने पर रिटर्निंग ऑफिसर ने थमाया नोटिस

कम्युनिटी रेडियो ग्रामीणों इलाक़ों के लोगों से जुड़ने, उनके लोक संस्कृति को जानने का अच्छा अवसर है। कम्युनिटी रेडियो से धीरे-धीरे क्षेत्र में बदलाव आएगा और विकास में स्थानीय लोगों को शामिल करेगा। महामारी के इस दौर में प्रशासन की पहल पर लोगों तक जानकारी पहुंचाने में कम्युनिटी रेडियो की महत्वपूर्ण भूमिका होगी।

भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय से 90.4 की फ्रीक्वेंसी प्राप्त हुई है। सामुदायिक रेडियो समुदायों को सशक्त बनाने का सबसे सशक्त माध्यम है। यही कारण है कि सरकार सामुदायिक रेडियो की स्थापना करने के लिए बल दे रही है।

यह भी पढ़ें :  ड्रोन हमले के आरोप पर नक्सलियों की क्या है रणनीति...? क्या शांति वार्ता के लिए तैयार है नक्सली संगठन...? बाहरी और स्थानीय कैडर के बीच मतभेद के सवाल पर क्या बोले नक्सली लीडर...?