बस्तर में अब नक्सलियों से मुकाबला करेगी DSF फोर्स… DRG की तर्ज पर होगा गठन, नक्सल पीड़ित व सरेंडर माओवादी होंगे भर्ती

2702

बस्तर में DRG की तर्ज पर होगा DSF का गठन, नक्सलियों से लड़ने बनेगी नई फोर्स… नक्सल पीड़ित व सरेंडर माओवादी होंगे भर्ती

रायपुर @ खबर बस्तर। छत्तीसगढ़ के बस्तर में नक्सलियों से मुकाबला करने के लिए DSF यानी ‘डिस्ट्रिक्ट स्ट्राइक फोर्स’ नामक नई फोर्स का गठन किया जाएगा। ये फोर्स बस्तर संभाग के सभी सातों जिलों में तैनात होगी।

बुधवार को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने विधानसभा में बजट पेश करते हुए डीएसएफ के गठन करने का ऐलान किया है। बताया जा रहा है कि डिस्ट्रिक्ट स्ट्राइक फोर्स में मुख्य रूप से सरेंडर नक्सली, नक्सल पीड़ित और सहायक आरक्षकों को शामिल किया जाएगा।

यह भी पढ़ें :  रक्षाबंधन पर बहनों को गिफ्ट में दिया 5-5 लीटर पेट्रोल... राखी नहीं बंधवाई, बहनों संग किया पौधरोपण

बता दें कि बस्तर में नक्सलियों से निपटने के लिए कुछ साल पहले डिस्ट्रिक्ट रिजर्व गार्ड यानी ‘डीआरजी’ फोर्स का गठन किया गया था। इस फोर्स में स्थानीय युवकों के साथ सरेंडर नक्सलियों की भी भर्ती की गई थी। इस फोर्स को नक्सल मोर्चे पर कई बड़ी सफलताएं हासिल हुई हैं। लिहाजा अब इसी की तर्ज पर DSF कैडर का गठन किया जा रहा है।

डीआरजी के जवान बस्तर के जल-जंगल-जमीन से अच्छी तरह वाकिफ होने के साथ ही भौगोलिक परिस्थितियों से भी परिचित होते हैं, जिसका नक्सल आपरेशन के दौरान सुरक्षा बलों को लाभ मिला है। वहीं अब DSF फोर्स में सरेंडर नक्सलियों की भर्ती से एक बड़ा फायदा फोर्स को मिलेगा। अब DRG और DSF दोनों फोर्स मिलकर बस्तर में नक्सलवाद के खात्मे के लिए काम करेंगे।

यह भी पढ़ें :  पूर्व MLA के भाई के यहां शौचालय नहीं, SDM ने सरपंच को जारी किया नोटिस

सहायक आरक्षकों के प्रमोशन की भी घोषणा

बजट में सीएम ने बस्तर में तैनात सहायक आरक्षकों को प्रमोशन देने की भी घोषणा की है। सीएम बघेल ने कहा है कि पिछले कई सालों से जिन आरक्षकों का प्रमोशन और वेतन वृद्धि नहीं हो पाई है, इस घोषणा से उनकी वेतन वृद्धि और प्रमोशन हो सकेगा।

इसके अलावा कई नक्सल हिंसा पीड़ित परिवार के सदस्यों ने नौकरी के लिए भी आवेदन दिया है। डिस्ट्रिक्ट स्ट्राइक फोर्स का गठन होने से ऐसे परिवारों को सीधा लाभ मिलेगा। नक्सल हिंसा से पीड़ित परिवार के सदस्यों को डिस्ट्रिक्ट स्ट्राइक फोर्स में भर्ती के लिए प्राथमिकता दी जाएगी।

यह भी पढ़ें :  भोपालपटनम में सिर्फ काला हीरा ही नहीं, एक डायमंड भी है ! जानिए कौन है वो ?

शांति और सुरक्षा स्थापित करने में मदद

बस्तर IG सुंदरराज पी ने बताया कि सीएम के इस बड़े ऐलान के बाद बस्तर में शांति और सुरक्षा स्थापित करने में बड़ी सफलता मिलेगी। हालांकि, DSF में हर जिलों में कितने सरेंडर नक्सली, नक्सल पीड़ित और सहायक आरक्षकों की भर्ती की जानी है इसकी गाइडलाइन अभी नहीं आई है। गाइडलाइन आने के बाद इसकी प्रक्रिया शुरू की जाएगी।