जश्ने उर्स-ए-आला हज़रत का 101 वां आयोजन 28 अक्टूबर को, जगदलपुर में जुटेंगे हजारों अकीदतमंद

140
Jashne Urs-e-Ala Hazrat's 101st event will be held in Jagdalpur

जगदलपुर @ खबर बस्तर। रज़ा उर्स कमेटी द्वारा सोमवार 28 अक्तूबर को शहर के जामा मस्जिद के विशाल ग्राउन्ड में आला हज़रत का 101वां उर्स बड़े ही शानो-शौकत के साथ मनाया जाएगा।

इस आयोजन में छत्तीसगढ मे पहली बार लंदन से आ रहे अंतरराष्ट्रीय स्तर के खतीब हजरत अल्लामा फ़रोगुल कादरी साहब (जनरल सेक्रेटरी वर्ल्ड इस्लामिक मिशन लन्दन इग्लैड़) की नूरानी तकरीर होगी। पहली बार शहर मे अंतरराष्ट्रीय स्तर के मौलाना की होने वाली तकरीर को लेकर मुस्लिम समाज के लोगों में खासा उत्साह देखा जा रहा है।

यह भी पढ़ें :  दुनिया का सबसे बड़ा संविधान है भारत का, जवानों ने मनाया संविधान दिवस

यह भी पढ़ें: थाईलैंड के मशहूर ‘ड्रैगन फ्रूट’ की खेती अब हो रही बस्तर के इस इलाके में…जानिए क्या है ‘ड्रैगन फ्रूट’ और क्यों खास है यह विदेशी फल

रज़ा उर्स कमेटी द्वारा इस भव्य आयोजन को लेकर तैयारियाँ की जा रही है। जश्ने उर्स-ए-आला हज़रत की निकाबत के लिए इंटरनेशनल नकीब हज़रत मौलाना आसिफ़ रज़ा सैफी प्रतापगढ उत्तरप्रदेश से और ‘शायर-ए-इस्लाम’ हज़रत मौलाना गुलाम नूरे मुजस्सम उन्नाव उत्तरप्रदेश से खास तौर से तशरीफ़ ला रहे हैं।

यह भी पढ़ें :  डीजे डांडिया नाइट्स की धूम रही किरंदुल में, युवाओं में दिखा जबरदस्त उत्साह

Jashne Urs-e-Ala Hazrat's 101st event will be held in Jagdalpur

आयोजकों के मुताबिक इस प्रोग्राम में जगदलपुर के अलावा बस्तर संभाग के अन्य जिलों के मस्जिदों के इमाम, मौलाना, हाफिज़ समेत अन्य अकीदतमंद बड़ी संख्या में मौजूद रहेंगे। कार्यक्रम में शामिल होने ओड़िशा से भी अकीदतमंद हाज़िर होंगे। रज़ा उर्स कमेटी ने इस आयोजन को सफल बनाने ज्यादा से ज्यादा लोगों को शरीक होने की गुजारिश की है।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…
यह भी पढ़ें :  नक्सलियों का मकसद गरीब आदिवासियों की संस्कृति मिटाना, पैसा उगाही करना और सत्ता हासिल करना है: फारुख अली

ख़बर बस्तर के WhatsApp ग्रुप में जुड़ने के लिए इस Link को क्लिक कीजिए….