40 किमी पैदल चलकर ग्रामीणों तक पहुंची मेडिकल टीम… सण्ड्रा क्षेत्र के 20 गांव के 980 ग्रामीणों का किया इलाज

37

40 किमी पैदल चलकर ग्रामीणों तक पहुंची मेडिकल टीम… सण्ड्रा क्षेत्र के 20 गांव के 980 ग्रामीणों का किया इलाज

मोहम्मद इमरान @ भोपालपटनम। मौसमी बीमारी के घेरे में घिरे ग्रामीणों के इलाज के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम संड्रा क्षेत्र के एडपल्ली, गरतुल, बड़ेककलेड, पीलूर सहित 20 गांव के 980 ग्रामीणों का इलाज कर मुख्यालय वापस लौटी है।

सप्ताह भर पहले ग्रामीणों ने स्वास्थ्य विभाग को बीमारी की सूचना दी। सूचना मिलते ही बीएमओ डॉ. अजय रामटेके ने दो डॉक्टरों के साथ अलग-अलग मेडिकल की टीम बनाकर संड्रा क्षेत्र के लिए रवाना कर दिया। दुर्गम व चुनौतीपूर्ण इलाके में उफ़ानी नदी नाले पैदल चलकर मेडिकल की टीम गांव-गांव में कैम्प लगाकर इलाज किया।

यह भी पढ़ें :  1 अगस्त को लॉकडाउन में भी खुलेंगे ये 5 दुकान, त्यौहारों के मद्देनजर जिला प्रशासन ने दी अनुमति

संड्रा से लौटी टीम ने बताया कि इस बार काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा भारी बारिश नालो में पानी भरा हुआ था एक गांव से दूसरे गांव पहुंचने में बड़ी मुश्किले उठानी पड़ी। खाने पीने का राशन भी खत्म हो चुका था। ऐसे में ग्रामीणों से मदद लेकर गुजारा करना पड़ा।

इलाज के दौरान 120 मलेरिया के मरीज मिले और गवर्वती महिलाओ की भी जांच हुई। वाइरल बुखार मरीजों की तादाद ज्यादा रही वहीं कोरोना के एक भी मरीज नही मिले। दो मेडिकल टीम में डॉ पीएन साहू, डॉ. चन्द्रशेखर, फार्मासिस्ट असीम अधिकारी, बीईईओ काका महेंद्र, शैलेश, रजनीश, एएनएम प्रतिमा, संगीत, सेवंता, नगुबाई, देवेंद्र, गजेंद्र बुरका, जनगम समैय्या मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें :  नक्सलियों पर टूटा कोरोना का कहर! पुलिस का दावा- कई माओवादी लीडर भी संक्रमित... SP ने की ये अपील!

ज्ञात हो कि यह क्षेत्र धुर नक्सलप्रभावित व पहुंचविहीन है। पगडंडी रास्ते से होकर जाना पड़ता है। बारिश के दिनों में टापू का रूप ले लेता है। चार माह ग्रामीण भी ब्लाक मुख्यालय से कटे हुए होते है। इस इलाके में दुपहिया वाहन भी जाना मुश्किल होता है।