नक्सली कमांडर रमन्ना के बेटे रंजीत ने किया सरेंडर, तेलंगाना में डाले हथियार

78

नक्सली कमांडर रमन्ना के बेटे रंजीत ने किया सरेंडर, तेलंगाना में डाले हथियार

के. शंकर @ सुकमा। कोरोना से जूझ रहे नक्सल संगठन को बड़ा झटका लगा है। कुख्यात नक्सल कमांडर रमन्ना के बेटे रंजीत ने तेलंगाना में सरेंडर कर दिया है। रंजीत ने बुधवार को हैदराबाद में तेलंगाना के डीजीपी एम महेंद्र रेड्डी के समक्ष हथियार डाल दिए।

एक दिन पहले ही झीरमघाटी कांड व दंतेवाड़ा विधायक भीमा मंडावी हत्याकांड के मास्टरमाइंड नक्सली कमांडर डीवीसीएम विनोद हेमला उर्फ सप्पो हुंगा की कोरोना से मौत की खबर आई थी। वहीं अब रंजीत का सरेंडर करना नक्सलियों के लिए बड़ा नुकसान है।

यह भी पढ़ें :  पटवारियों की बेमियादी हड़ताल जारीः राजस्व पटवारी संघ ने बविप्रा अध्यक्ष लखेश्वर बघेल को सौंपा ज्ञापन

Read More:

माना जा रहा है कि नक्सल संगठन में कोरोना के बढ़ते मामलों और इससे कई माओवा​दी लीडर्स की मौत के बाद रंजीत ने आत्मसमर्पण करने का फैसला किया। रंजीत उर्फ श्रीकांत का पिता रमन्ना नक्सलियों की सेंट्रल कमेटी का मेंबर और दण्डकारण्य स्पेशल जोनल कमेटी का सचिव भी था।

यह भी पढ़ें :  मंत्री कवासी लखमा को फोन पर धमकाने वाला युवक गिरफ्तार, CBI अफसर बनकर मांगे थे 2 लाख रूपए !

बता दें कि 1998 में दण्डकारण्य के जंगलों में रंजीत का जन्म हुआ था। नक्सल कैम्प में जन्म लेने के बाद उसे बम और बंदूक के जरिए क्रांति लाने की शिक्षा मिली। साल 2015 में वह गुरिल्ला आर्मी का सदस्य बना और 2019 में वह प्रमोट होकर प्लाटून पार्टी कमेटी का सदस्य बन गया।

Read More:

रंजीत 2018 में किस्टारम में हुए आईईडी ब्लास्ट की घटना में शामिल था। इस घटना में सीआरपीएफ के 9 जवान शहीद हुए थे। मार्च 2020 में मिनपा मुठभेड़ में भी वह शामिल था। इस हमले में 23 जवान शहीद हो गए थे और तीन नक्सली मारे गए थे।

यह भी पढ़ें :  बारसूर इलाके में पिकनिक मनाने गए रायपुर के 4 युवक इंद्रावती में डूबे, एक की मौत, एक लापता