NRC और नागरिकता कानून के विरोध में नक्सलियों ने फेंके पर्चे… कहा, गुरिल्ला युद्ध को मोबाइल युद्ध में बदलेंगे

70
Naxalites throw pamphlets against NRC and CAA

#NRC और #नागरिकता_कानून के #विरोध में #नक्सलियों ने #फेंके_पर्चे… कहा, #गुरिल्ला युद्ध को #मोबाइल_युद्ध में #बदलेंगे

पंकज दाऊद @ बीजापुर। नक्सलियों ने नागरिकता कानून का विरोध करते कहा है कि इससे रीति रिवाज पर असर पड़ेगा और इससे स्थानीय लोगों को विस्थापन का दंश झेलना पड़ सकता है।

Naxalites throw pamphlets against NRC and CAA

इस आशय के पर्चे माओवादियों की मद्देड़ एरिया कमेटी ने भोपालपटनम क्षेत्र में फेंके हैं।

यह भी पढ़ें : नक्सलियों ने पर्चे फेंक सुनाया फरमान, इस विभाग के अधिकारी-कर्मचारियों को सजा देने का किया ऐलान… जानिए पूरा मामला !

यह भी पढ़ें :  बेरोजगारी व मंदी से लोगों का ध्यान भटकाने में माहिर हैं PM मोदी, देश को अराजकता की ओर ले जा रही सरकार- पाढ़ी

माओवादियों ने आरोप लगाया है कि इससे कई वर्गों को परेशानी हो सकती है। आदिवासियों को जल जंगल जमीन छोड़ना पड़ सकता है और इस पर लूटेरों का राज हो जाएगा। माओवादियों ने सभी वर्गों से इस कानून का विरोध करने कहा है।

Naxalites throw pamphlets against NRC and CAA

पर्चे में कहा गया है कि नया कानून लाकर केन्द्र की भाजपा सरकार 20 से 30 लाख आदिवासियों को जंगल जमीन से बेदखल करना चाहती है। नक्सलियों ने केन्द्र पर आरोप लगाया है कि मोदी सरकार गरीब जनता का दमन कर रही है और निर्दोशों को मारपीट कर जेल भेज रही है।

यह भी पढ़ें :  नक्सलियों के कम्युनिकेशन टीम के चीफ सोबराय की अस्पताल में मौत, हैदराबाद में चल रहा था इलाज

Read More : महिला एवं बाल विकास विभाग में निकली भर्ती, जल्द करें आवेदन

नक्सलियों ने दण्डकारण्य स्पेशल जोनल कमेटी के सचिव रमन्ना को गरीबों के हक के लिए लड़ने वाले निरूपित करते कहा है कि अब गुरिल्ला युद्ध को मोबाइल युद्ध में बदल डालेंगे।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…

ख़बर बस्तर के WhatsApp ग्रुप में जुड़ने के लिए इस Link को क्लिक कीजिए….


 

यह भी पढ़ें :  बर्ड फ्लू से नहीं, फुड पाइजनिंग से कॉमन मैना की मौत… महाराष्ट्र बॉर्डर से अब भी पोल्ट्री उत्पादों की आवक पर बैन