इंद्रावती का लगातार बढ़ रहा जलस्तर, महाराष्ट्र व तेलंगाना से टूटा बीजापुर जिले का संपर्क… तस्वीरों में देखिए कैसे हैं हालात !

37

बीजापुर @ खबर बस्तर। बीते 72 घंटे से लगातार जारी मूसलाधार बारिश से बीजापुर के कई इलाकों में बाढ़ के हालात बन गए हैं। इंद्रावती, चिंतावागु नदी समेत छोटे-बड़े नालों का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है।

बारिश के चलते गंगालूर, ताड़लागुड़ा का संपर्क जहां जिला मुख्यालय से टूट गया है, वहीं बासागुड़ा, बेदरे समेत कई अन्य मार्गों पर यातायात भी काफी हद तक बाधित होने की जानकारी मिल रही है।

यह भी पढ़ें : भरी बारिश में डीआरजी के जवानों ने नक्सली कैम्प में किया अटैक… 2 माओवादी ढेर, हथियार बरामद

लगातार बारिश के कारण बीजापुर गंगालूर मार्ग पर पदेड़ा नाला का जलस्तर बढ़ जाने से इस पर बना रपटा दो दिनों से जलमग्न है। रपटे के उपर डेढ़ से दो फिट तक पानी है। नतीजतन गंगालूर, चेरपाल, रेडडी आदि गांवों का संपर्क जिला मुख्यालय से टूट गया है।

यह भी पढ़ें :  सुरक्षा बलों को बड़ी कामयाबी: टिफिन बम, स्पाईक्स, नक्सली वर्दी सहित नक्सल सामग्री बरामद

 

तेज बारिश की वजह से इस इलाके में विद्युत आपूर्ति भी बाधित है, जिससे लोगों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। बारिश के चलते जिला मुख्यालय से लगे कई रिहायशी इलाकों में भी आस-पास बहने वाले नालों का पानी घुस आया है।


खबर बस्तर के telegram ग्रुप में जुड़ने के लिए इस Link को क्लिक कीजिए… 


धनोरा गांव से भी ऐसी एक तस्वीर आई है। जहां सड़क पूरी तरह जलमग्न नजर आ रहा है। क्षेत्र की दो बड़ी नदियां इंद्रावती और चिंतावागु भी उफान पर है। इंद्रावती का जलस्तर डेंजर लेवल को पार कर चुका है, वही चिंतावागु का जलस्तर भी तेजी से बढ़ रहा है।

 

इंद्रावती और चिंतावागु में बढ़ते जलस्तर से मद्देड़, पटनम इलाके में बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है। हालांकि प्रशासन की तरफ से सभी इलाकों को अलर्ट पर रखा गया है। किसी भी स्थिति में लोगों को मुसीबत से बाहर निकालने के लिए रेस्क्यू दल को 24 घंटे मुस्तैदी बरतने के निर्देश दिए गए हैं।

यह भी पढ़ें :  सुकमा में 1 जून तक जारी रहेगा लॉकडाउन, आदेश जारी... सिर्फ इन दुकानों को दोपहर 2 बजे तक खोलने मिली अनुमति!

यह भी पढ़ें : इंद्रावती नदी के बीच मझधार में फंसी ग्रामीणों से भरी मोटर बोट… 4 घंटे तक चले रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद बचाई गई लोगों की जान

 

  • 72 घंटे से मूसलाधार बारिश से अंदरूनी इलाकों में छोटे-बड़े पुल-पुलियों, रपटा आदि जलमग्न है।
  • हालांकि, कहीं से कोई जनहानि की खबर नहीं है।
  • बताया यह जा रहा है कि अनवरत बारिश के चलते 50 से अधिक गांवों का संपर्क जिला मुख्यालय से टूट गया है।
  • भोपालपटनम, मद्देड़ समेत एनएच 63 पर बसे गांवों में गत वर्ष की तरह एक बार फिर बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है।
  • आशंका जताई गई है कि जिस तेजी से इंद्रावती का जलस्तर बढ़ रहा है इसका दबाव चिंतावागु पर बढ़ेगा, जिससे बैकवाटर का दबाव मद्देड़, पटनम वासियों को झेलना पड़ सकता है।
यह भी पढ़ें :  IPS ट्रांसफर ब्रेकिंग: 8 जिलों के SP और दो IG बदले गए... ASP की भी नई पोस्टिंग

 

चिंतावागु में बढ़े जलस्तर की वजह से तारलागुड़ा मार्ग पर आवागमन पूरी तरह बाधित है। नतीजतन ताड़लागुड़ा के साथ-साथ सीमावर्ती तेलंगाना के एटूरनगरम, वारंगल, चेरला, हैदराबाद की ओर जाने तथा बीजापुर आने वाली गाडि़यां आगे नहीं बढ़ पा रही हैं। वही इंद्रावती उफान पर होने से महाराष्ट से भी कनेक्टिविटी टूट गई है।


खबर बस्तर के WhatsApp ग्रुप में जुड़ने के लिए इस Link को क्लिक कीजिए…