बारदाने जमा नहीं, दुकानदारों पर गिरेगी गाज… दो दुकान संचालकों पर SDM ने की बड़ी कार्रवाई

106

बारदाने जमा नहीं, दुकानदारों पर गिरेगी गाज… दो दुकान संचालकों पर SDM ने की बड़ी कार्रवाई

पंकज दाउद @ बीजापुर। एसडीएम देवेश ध्रुव ने पीडीएस का बारदाना जमा नहीं करने वाले दुकानदारों को कड़ा अल्टीमेटम देते दो दुकानों को निलंबित कर दिया है। बाकि दुकानदारों को तय वक्त में बारदाना जमा करने की चेतावनी भी दी है।

बीजापुर ब्लाॅक के मनकेली और पदमूर की दुकानों को निलंबित कर इन्हें क्रमश: बीजापुर एवं रेड्डी संलग्न कर दिया गया है। पापनपाल, मनकेली और पदमूर के दुकान संचालकों ने बारदाने जमा नहीं किए थे और वे बैठक में भी नहीं आते थे। इसके अलावा उन्होंने डीडी भी जमा नहीं की थी।

यह भी पढ़ें :  मियाद पूरी होने के 4 साल बाद भी नहीं बनी सड़क... 87 लाख रूपए का भुगतान, होली से पहले मिट्टी का खेल

बता दें कि बीजापुर अनुभाग में 46 राशन दुकानों का संचालन हो रहा है। इनमें से करीब 20 संचालकों ने डीडी जमा नहीं की है। वहीं 20 फीसदी बारदाने जमा नहीं किए गए हैं। समर्थन मूल्य पर धान खरीदी के लिए प्रशासन नए, मिलर एवं पीडीएस बारदानों का इस्तेमाल कर रही है।

बताया गया है कि इस साल अप्रैल से दिसंबर तक दुकानों को 129754 बारदाने दिए गए थे। इसमें से 104414 बारदाने जमा हो गए हैं। ष्षेष 25340 यानि बीस फीसद बारदानों को जमा करवाने प्रषासन दबाव बना रहा है ताकि धान खरीदी प्रभावित ना हो।

यह भी पढ़ें :  कोविड सेंटर पहुंच जिपं अध्यक्ष ने बढ़ाया मरीजों का हौसला... मरीजों ने मांगा कूलर व वाटर डिस्पेंसर, 2 घंटे के भीतर पूरी हुई मांग

ये है धान खरीदी का टारगेट

जिले में 46 दिनों में धान खरीदी का लक्ष्य इस साल 68784 मेट्रिक टन निर्धारित किया गया है। इसके लिए अभी 1700 गठान बोरे उपलब्ध हैं। इससे धान खरीदी की जा रही है। किसानों की सहमति से 25 से 30 फीसदी बारदाने उन्हीं से लिए जा रहे हैं।

जिले के 21 धान खरीदी केन्द्रों में अब तक 1531 किसानों से 64744 क्विंटल धान खरीदी की गई है। कलेक्टर राजेन्द्र कटारा ने सभी नोडल अफसरों से इस पर कड़ी नजर रखने कहा है। वे खुद भी धान खरीदी की मानिटरिंग कर रहे हैं। दो में से एक मिलर ने धान का उठाव भी शुरू कर दिया है। परिवहन ठेकेदारों की भी नियुक्ति कर दी गई है।

यह भी पढ़ें :  'कंगारू कोर्ट' में सरंपच के दामाद समेत 4 लोगों की हत्या... 3 ग्रामीणों का सुराग नहीं, एक का शव लेकर आई पुलिस... 3 लाशों को सौंपने से ग्रामीणों ने किया इंकार

मिलरों को नहीं मिल रहा है धान

जिले में मिलर्स को यहां संग्रहण केन्द्र नहीं होने से धान नहीं मिल पा रहा है। अभी धान जगदलपुर भेजा जा रहा है। यहां संग्रहण केन्द्र खुलने पर जिले के मिलर्स को कस्टम मिलिंग के लिए धान मिलेगा। अभी धान की खरीदी करीब 9 फीसदी ही हुई है। जनवरी में धान की आवक बढ़ेगी।