सिलगेर की जांच रिपोर्ट आई, अध्ययन किया जाएगा… CM भूपेश बघेल बोले ‘‘ संवैधानिक दायरे में ही नक्सलियों से बात, भाजपा भी इस बात को ले भ्रमित ’’

1037

सिलगेर की जांच रिपोर्ट आई, अध्ययन किया जाएगा… CM भूपेश बघेल बोले ‘‘ संवैधानिक दायरे में ही नक्सलियों से बात, भाजपा भी इस बात को ले भ्रमित ’’

पंकज दाऊद @ बीजापुर। यहां सरकारी कामकाज का फीडबैक लेने आए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बताया कि सिलगेर की जांच रिपोर्ट आ गई है और इसका अध्ययन किया जा रहा है। जहां तक नक्सलियों से चर्चा का सवाल है, जब वे भारत के संविधान पर विश्वास करेंगे, तब ही उनसे बातचीत की जाएगी।

सर्किट हाऊस में शुक्रवार की सुबह पत्रकारों से चर्चा में सीएम भूपेश बघेल ने साफ तौर पर कहा कि नक्सली भारत के संविधान पर विश्वास करें, तब ही उनसे चर्चा की जाएगी। नक्सली मेन स्ट्रीम में आकर सामान्य जीवन जी सकते हैं।

इस बात को लेकर भाजपा का ये कहना गलत है कि सरकार ने नक्सलियों से आगे घुटने टेक दिए हैं। इस बात पर भाजपा भी भ्रमित है। सीएम ने साफगोई से कहा कि नक्सलवाद पूरी तरह से खत्म नहीं हुआ है, अलबत्ता उनका प्रभाव क्षेत्र कम हुआ है।

ऐसे इलाकों में स्कूल, आंगनबाड़ी, पीएचसी, सड़कें आदि का निर्माण तेजी से हो रहा है। पहले लोग खौफ में जीवन जी रहे थे अब ऐसे इलाकों में लोग सामान्य जीवन जी रहे हैं।

यह भी पढ़ें :  10वीं पास उम्मीदवारों के लिए बैंक में नौकरी पाने का सुनहरा मौका, जानिए कैसे करें आवेदन

सिलगेर आंदोलन के दौरान 600 करोड़ रूपए का बजट सड़कों, आंगनबाड़ी, स्वास्थ्य केन्द्र, नलकूप आदि के लिए दिया गया। सिलगेर तक बस चलने लगी है। पहले यहां तक जाना कठिन था। आदिवासी जल , जंगल एवं जमीन के अधिकार की बात करते हैं, तो उन्हें ये सब सरकार दे रही है।

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि जब कभी घटना होती है तो आरोपियों को गिरफ्तार किया जाता है। जहां तक फर्जी मामले में निर्दोष आदिवासियों की रिहाई का सवाल है, अब तक 1200 लोगों की रिहाई हो गई है। ये प्रक्रिया जारी है।

इस मामले में राज्य सरकार संजीदा है। सीएम ने जानकारी दी कि एड़समेटा एवं सारकेगुड़ा की एक्शन टेकन रिपोर्ट आ गई है। छग युवा आयोग के सदस्य अजय सिंह से पार्टी से निष्कासन के सवाल पर उन्होंने पत्रकारों से कहा कि ये प्रश्न संगठन से किया जाना चाहिए।

पत्रवार्ता के दौरान आबकारी मंत्री कवासी लखमा, सांसद दीपक बैज, बस्तर क्षेत्र विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष एवं विधायक विक्रम मण्डावी एवं मुख्य सचिव अमिताभ जैन मौजूद थे।

यह भी पढ़ें :  घर से गाय चराने निकला था युवक, तीन दिन बाद सड़क पर मिली लाश... हत्या की आशंका, जांच में जुटी पुलिस

डीजे कोर्ट की प्रक्रिया शुरू होगी

मुख्यमंत्री ने कहा कि यहां जिला एवं सत्र न्यायालय खोलने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी। भोपालपटनम में कागज कारखाने पर उन्होंने कहा कि इसके लिए उद्योगपतियों से चर्चा की जाएगी। उन्होंने बताया कि बीजापुर, गंगालूर एवं भद्राकाली में विद्युत सब स्टेशन स्थापित किए जाएंगे।

मनरेगा कर्मियों की हड़ताल पर सीएम ने कहा कि उनके वेतन में साढ़े चार हजार की बढ़ोतरी की गई है। इसके बाद भी हड़ताल जारी रखना नामुनासिब है। इससे गांवों में चल रहे काम प्रभावित हो रहे हैं। मजदूरों को पैसे नहीं मिल पा रहे हैं।

लोगों की क्रय शक्ति बढ़ी

सीएम ने बताया कि 2018 में 18 ट्रैक्टर ही बिके थे। इन तीन सालों में जिले में 300 टै्रक्टर और पांच हजार मोटर साइकिल बिकी हैं। इसका मतलब लोगों की आय में इजाफा हुआ है और उनकी क्रय शक्ति बढ़ी है।

सीएम ने बताया कि छह माह पहले विधायक विक्रम मण्डावी उनके पास मुरूम सड़कों की मांग लेकर आए थे। तब उन्होंने सवाल किया कि आज जब डामर सड़क का युग है, तो आपने मुरूम सड़क की मांग क्यों की।

यह भी पढ़ें :  डैम में डूबने से युवक की मौत, नहाने के दौरान हुआ हादसा... SDRF की टीम ने शव किया बरामद

इस पर विधायक ने कहा कि दरअसल, गांवों में टै्रक्टरों को सामान ले जाने के लिए मुरूम सड़क की जरूरत है। इस बात पर उन्होंने सड़कों की मंजूरी दे दी।

नब्बे में नौ पूरे

मुख्यमंत्री भूपेष बघेल ने बताया कि सरगुजा के बाद उन्होंने यहां सुकमा एवं बीजापुर जिले में सरकार के कामकाज की जमीनी हकीकत जानी। उन्होंने अब तक नब्बे में से नौ विधानसभा क्षेत्रों को भेंट मुलाकात कार्यक्रम के तहत कवर किया है। सुकमा एवं बीजापुर जिले में छह स्थानों पर उन्होंने चौपाल लगाई।

शुक्रवार को वे नारायणपुर विधानसभा क्षेत्र जाएंगे। मुख्यमंत्री ने संतोष व्यक्त करते कहा कि राज्य सरकार की योजनाओं को जमीनी स्तर पर अच्छे ढंग से अमली जामा पहनाया जा रहा है। दरअसल, वे फीडबैक लेने ही चौपाल का आयोजन कर रहे हैं।

छग में 222 स्कूल खोले गए हैं। आत्मानंद स्कूल में अंग्रेजी माध्यम से पढ़ने वाले विद्यार्थियों और इससे वंचित रहने वाले हजारों बच्चों के सवाल पर उन्होंने कहा कि हर परिवार या बच्चा अंग्रेजी माध्यम में पढ़ना नहीं चाहता।