MLA की सक्रियता पर CM भूपेश ने उठाए सवाल ! बोले, ‘‘ शिक्षा जरूरी, पता नहीं लखमा कैसे बने मंत्री ? ’’

3650

MLA की सक्रियता पर CM भूपेश ने उठाए सवाल ! बोले, ‘‘ शिक्षा जरूरी, पता नहीं लखमा कैसे बने मंत्री ? ’’

पंकज दाऊद @ बीजापुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने विधायक विक्रम शाह मण्डावी की सक्रियता के बारे में आवापल्ली के चौपाल में लोगों से पूछा और ये भी कहा कि शिक्षा जरूरी है। क्योंकि बगैर पढ़े लिखे युवाओं को चपरासी की नौकरी भी नहीं मिलती लेकिन पता नहीं कवासी लखमा मंत्री कैसे बन गए।

यहां से 30 किमी दूर धुर नक्सल प्रभावित इलाके आवापल्ली में बुधवार को जनचौपाल लगी। यहां सीएम ने लोगों से पूछा कि विधायक विक्रम मण्डावी यहां आते हैं क्या, तो लोगों ने तपाक से हॉं में जवाब दिया।

यह भी पढ़ें :  कांग्रेस पार्षद उम्मीदवार की मौत, अस्पताल में इलाज के दौरान तोड़ा दम

लोगों ने मंत्री कवासी लखमा एवं सांसद दीपक बैज के भी यहां आने की बात सीएम को बताई। सीएम ने जाति, निवास, बंटवारे,नामांकन के काम के बारे में लोगों से कहा कि यदि कोई इस बारे में शिकायत है, तो वे कर सकते हैं।

यदि कोई भूमिहीन है तो वे आवेदन करें, उन्हें सालाना सात हजार रूपए दिए जाएंगे। किसान और मजदूरों को किश्तों में राशि दी जा रही है। सरकार का मकसद लोगों की आमदनी बढ़ाना है।

यह भी पढ़ें :  नक्सलियों ने बस्तर बटालियन का किया विरोध, ग्रामीणों की निजी जमीन में जबरदस्ती कैम्प खोलने का लगाया आरोप... SP बोले, सत्ता खिसकने से बौखलाए नक्सली !

सीएम ने कहा कि 15 सालों में सुकमा एवं बीजापुर में स्कूल बंद हुए थे। बीजापुर में 163 एवं सुकमा में 123 स्कूलों को फिर से खोला गया है। लोगों की मांग पर उसूर एवं आवापल्ली में मिनी स्टेडियम, आवापल्ली में रेस्ट हाऊस, दाल के रेट में बढ़ोतरी, एवं कई सौगात उसूर ब्लॉक को दी।

इस अवसर पर मंत्री कवासी लखमा, सांसद दीपक बैज, जिला कांग्रेस अध्यक्ष लालू राठौर, जिला पंचायत उपाध्यक्ष कमलेश कारम एवं अधिकारी मौजूद थे।

यह भी पढ़ें :  मनोज मण्डावी का विधानसभा उपाध्यक्ष बनना तय, दाखिल किया नामांकन... सीएम भूपेश बघेल समेत आला नेता रहे मौजूद

एमएलए ने ये कहा

विधायक विक्रम मण्डावी ने कहा कि भूपेश बघेल पहले ऐसे मुख्यमंत्री हैं, जो जनता से सीधे संवाद कर रहे हैं। वे लोगों की आवाज सुन रहे हैं।

उन्होंने पामेड़ क्षेत्र के लोगों की समस्या दूर करने की ग्रुजारिश सीएम से की। 190 किमी दूर पामेड़ के लोगों ने समस्या को लेकर आवेदन दिया है और मुख्यमंत्री जरूर उनकी मांगों को पूरी करेंगे।