कोरोना के खौफ से गांव में किलेबंदी की कोशिश, ग्रामीणों ने पेड़ काट रास्ता जाम किया… बाहर से आने वालों पर लगाई पाबंदी

60
Villagers blocked the way to cut trees due to fear of Corona

कोरोना के खौफ से गांव में किलेबंदी की कोशिश, ग्रामीणों ने पेड़ काट रास्ता जाम किया… बाहर से आने वालों पर लगाई पाबंदी

पंकज दाऊद @ बीजापुर। यहां से 18 किमी दूर रेड्डी गांव के लोगों ने रास्ते में पेड़ काटकर गिरा दिया ताकि बाहर के लोग ना आ सकें और कोरोना की पैठ गांव में ना बन सके। लोगों ने बैठक कर बाहरी व्यक्तियों के दाखिले पर पाबंदी लगा दी है और गांव के लोगों से भी बाहर नहीं जाने की समझाईश दी है।

यह भी पढ़ें :  लाॅकडाउन: सड़कों में सन्नाटा और सब्जी बाजार सूने... एक ही दिन में 16 नए केस, इधर 20 हजार का जुर्माना

Villagers blocked the way to cut trees due to fear of Corona

सूत्रों के मुताबिक रेड्डी में कोरोना का खौफ इसलिए पसरा क्योंकि इससे सटी पंचायत गंगालूर में 22 कोरोना पाॅजीटिव पाए गए हैं और गंगालूर का मोदीपारा फकत एक किमी दूर है। बताया गया है कि गांव में कोई ना आ सके, इस वजह से रविवार को युवकों ने रास्ते में पेड़ की शाखाएं डाल जाम लगा दिया हालांकि सीआरपीएफ के जवानों ने इसे हटा दिया।

Read More:

 

यह भी पढ़ें :  सुकमा पुलिस ने पेश की मानवता, गुम युवक को परिवार से मिलवाया... सर्चिंग के दौरान मिला था शख्स

बताया गया है कि सामान लाने के लिए सीआरपीएफ की गाड़ी को मुश्किल हो रही थी और इसलिए जाम को खोल दिया गया। रेड्डी पंचायत की आबादी 1179 है। इसमें दो गांव आते हैं, रेड्डी और कोटेर। कोटेर गांव में 147 परिवार बसते हैं जबकि रेड्डी में 123। दोनों ही गांवों में छह-छह पारे हैं।

Villagers blocked the way to cut trees due to fear of Corona

छह मकान ढहे

कोटेर गांव में दो बार बाढ़ आई और राशन की दिक्कत बढ़ी। बताया गया है कि 6 मकान धराशायी हो गए। रविवार को पटवारी कोटेर गए थे। पंचायत सचिव संदीप दुर्गम ने बताया कि रविवार को बोट से 25 क्विंटल चावल राहत के तौर पर कोटेर पहुंचाया गया।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…
यह भी पढ़ें :  कोरोना संक्रमित अफसर के 5 परिजनों की रिपोर्ट निकली पॉजिटिव, अधिकारी के संपर्क में आए 7 स्वास्थ्य कर्मी हुए क्वारेंटाइन