जिले में बढ़ने लगी है मजदूरों की फौज, साढ़े 16 हजार श्रमिकों का हो गया है रजिस्ट्रेशन

53

जिले में बढ़ने लगी है मजदूरों की फौज, साढ़े 16 हजार श्रमिकों का हो गया है रजिस्ट्रेशन

पंकज दाउद @ बीजापुर। सरकारी और गैर सरकारी क्षेत्र में नई इमारतों एवं दीगर संरचनाओं के तेजी से बनने के कारण जिले में साल दर साल मजदूरों की संख्या में इजाफा हो रहा है। अब तक तो यहां पंजीकृत मजदूरों की संख्या 16557 पहुंच गई है।

– जिले में पंजीकृत श्रमिकों की संख्या बढ़ी

सूत्रों की मानें तो हर साल औसतन 5 से 7 सौ मजदूरों का पंजीयन श्रम विभाग में हो रहा है। जिले के बाशिंदों का ही विभाग पंजीयन कर रहा है। सड़कों, पुल, पुलियों, नालियों और नालियां बन रही है। सरकारी इमारतें तेजी से खड़ी हो रही हैं और अंदरूनी इलाकों में भी निजी भवनों का निर्माण होने लगा है।

यह भी पढ़ें :  छत्तीसगढ़: कालेज के प्राचार्यों को मिला प्रमोशन, शासन ने जारी की ट्रांसफर लिस्ट

आवापल्ली, बासागुड़ा, कुटरू, मद्देड़, भोपालपटनम, जांगला, भैरमगढ़, नेलसनार एवं अन्य गांवों में पहले लोग सलवा जुड़म के कारण घर नहीं बना रहे थे लेकिन अब खौफ कम हुआ है और भवन बनने लगे हैं। ऐसा नहीं है कि बाहर से आकर मजदूर काम नहीं कर रहे हैं।

बाहर से भी प्रशिक्षित मजदूर आकर काम कर रहे हैं लेकिन इनका पंजीयन इस जिले में नहीं किया गया है। एक अनुमान के मुताबिक हर साल 5 से 7 सौ मजदूरों का पंजीयन किया जा रहा है।

बताया गया है कि छग भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण मण्डल के तहत 7882 मजदूरों का पंजीयन हुआ है जबकि छग असंगठित कर्मकार राज्य सामाजिक सुरक्षा मण्डल के तहत 8675 श्रमिकों का रजिस्ट्रेशन किया गया है।

यह भी पढ़ें :  बस्तर में नक्सली हमले में CAF के दो जवान शहीद, सीआरपीएफ का एक ASI घायल

कर्मकार कल्याण मण्डल में पंजीकृत 2300 श्रमिकों को साइकिल दी गई है जबकि 263 महिलाओं को सिलाई मशीन। 1661 श्रमिकों को औजार किट प्रदाय किए गए हैं। वहीं दुर्घटना में मृत्यु पर 73 परिवारों को अनुग्रह राशि का भुगतान किया गया है।

मजदूर मृत्यु एवं दिव्यांग सहायता योजना का लाभ 9 परिवारों एवं श्रमिकों को दिया गया है। 24 लोगों का ई रिक्शा दिया गया है। सुरक्षा उपकरण सहायता योजना से 1500 लोगों को लाभ मिला है। भगिनी प्रसुति सहायता योजना से 162 महिलाओं को फायदा हुआ है।

मिनीमाता कन्या सहायता योजना से 81 को लाभ मिला है। वहीं कौशल विकास एवं परिवार सशक्तिकरण योजना से 203 लोग लाभान्वित हुए हैं। प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना का फायदा 1110 श्रमिकों को मिला है। 450 लोग प्रधानमंत्री जीवन ज्योति योजना से लाभान्वित हुए हैं।

यह भी पढ़ें :  कोरोना पाॅॅॅजीटिव निकलने पर दुकानदार जंगल की ओर भागा, पुलिस ने पकड़ा... परिवार के 4 अन्य सदस्य भी निकले संक्रमित

श्रम विभाग कार्यालय में आने वाले श्रमिकों का पंजीयन तो करता है लेकिन गांवों और कस्बों में जाकर भी श्रमिकों का पंजीयन किया जाता है। श्रम विभाग की इन योजनाओं से अब तक 15761 लोग फायदा उठा चुके हैं।

बच्चों को भी फायदा

श्रमिकों के बच्चों को भी छात्रवृत्ति योजना का लाभ मिल रहा है। बताया गया है कि मेधावी छात्र छात्रा प्रोत्साहन योजना के तहत 74 विद्यार्थियों को लाभ मिला है। नौनिहाल छात्रवृत्ति सहायता योजना से 1520 स्कूली और काॅलेज के विद्यार्थी लाभान्वित हुए हैं। इस योजना के तहत पहली से काॅलेज तक दस से 12 हजार रूपए सालाना दिए जाते हैं।