‘लोन वर्राटू’ अभियान: दंतेवाड़ा में दो ईनामी सहित 7 नक्सलियों ने किया सरेंडर… हत्या, आगजनी व फायरिंग की घटनाओं में थे शामिल

44
7 naxalites including two priests surrendered in Dantewada

‘लोन वर्राटू’ अभियान: दंतेवाड़ा में दो ईनामी सहित 7 नक्सलियों ने किया सरेंडर… हत्या, आगजनी व फायरिंग की घटनाओं में थे शामिल

दंतेवाड़ा @ खबर बस्तर। जिले में चलाए जा रहे नक्सल उन्मूलन अभियान के तहत शनिवार को पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। लोन वर्राटू (घर वापस आईये) अभियान से प्रभावित होकर 7 नक्सलियों ने एसपी अभिषेक पल्लव व सीआरपीएफ डीआईजी डीएन लाल के समक्ष सरेंडर कर दिया।

7 naxalites including two priests surrendered in Dantewada

आत्मसमर्पित नक्सलियों में दो ईनामी नक्सली भी शामिल हैं। पुलिस के मुताबिक सरेंडर करने वाले नक्सली कटेकल्याण एरिया कमेटी के अंतर्गत सक्रिय थे और हत्या, आगजनी व जवानों पर फायरिंग जैसी घटनाओं में शामिल थे।

Read More: 

 

यह भी पढ़ें :  जिले के जंगल में 2862 स्थानों पर लगी आग ! वनकर्मियों की हड़ताल से शिकारियों और लकड़ी तस्करों की मौज

सीआरपीएफ कैम्प बड़े गुडरा में पुलिस व सीआरपीएफ के अफसरों की मौजूदगी में इन नक्सलियों ने हिंसा का रास्ता छोड़ समाज की मुख्यधारा से जुड़कर विकास में सहयोग करने की इच्छा जताई। अस दौरान इन्हें एसपी द्वारा शासन के पुर्नवास योजना के तहत प्रोत्साहन राशि प्रदान की गई।

7 naxalites including two priests surrendered in Dantewada
बता दें कि दंतेवाड़ा पुलिस द्वारा शुरू किए गए ‘लोन वर्राटू’ अभियान को लगातार सफलताएं मिल रही हैं। हाल ही में माओवादी प्लाटून सदस्य भीमा मरकाम समेत भैरमगढ़ एरिया कमेटी में सक्रिय 18 नक्सलियों ने कलेक्टर व एसपी के समक्ष एक साथ सरेंडर किया था। वहीं अब 7 माओवादियों ने नक्सलवाद से तौबा की है।

यह भी पढ़ें :  छत्तीसगढ़ के नए जिलों में 1100 पदों की स्वीकृति, नई तहसीलों में भी होगी भर्ती

Read More: 

इस दौरान सीआरपीएफ 195वीं वाहिनी कमाण्डेंट राकेश कुमार सिंह, एएसपी दंतेवाड़ा राजेन्द्र जायसवाल, सीआरपीएफ (परिचालन) द्वितीय कमान अधिकारी सजंय राउत, द्वितीय कमान अधिकारी कुमार सौरभ, असिस्टेंट कमाण्डेंट संजय चैहान, एसडीओपी किरंदुल देवांश सिंह राठौर कुआकोण्डा टीआई सलीम खाखा समेत अन्य अधिकारी कर्मचारीगण उपस्थित रहे।

7 naxalites including two priests surrendered in Dantewadaइन घटनाओं में थे शामिल

आत्मसमर्पित सभी माओवादी ग्राम बड़ेगुडरा, छोटेगुडरा, एटेपाल, जियाकोरता एवं तेलम-टेटम क्षेत्र में हत्या, आगजनी, रोड़ खोदने, पुल-पुलिया क्षतिग्रस्त करने, सुरक्षा बल के जवानों द्वारा गुजरने वाले संभावित रास्तों में प्रेशर आईईडी व नुकीली स्पाइक लगाने जैसे कामों को अंजाम देते थे।

यह भी पढ़ें :  क्रॉस कंट्री रेस में केन्याई धावकों ने मारी बाजी... रन में बरसा धन, देश के विभिन्न हिस्सों से पहुंचे खिलाड़ियों ने की शिरकत

Read More: 

 

पुलिस के मुताबिक, साल 2018 को 10 अगस्त को बड़ेगुडरा निवासी लोकेश करटामी की हत्या, 25 अगस्त 2014 को पुलिस गश्ती दल पर बम ब्लास्ट कर फायरिंग करने, दिनांक 18 मार्च 2016 को जियाकोरता व एटेपाल के बीच सर्चिंग पार्टी फायरिंग की वारदात में भी ये शामिल रहे।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…

ख़बर बस्तर के व्हॉट्सएप्प ग्रुप में जुड़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए….