सीएम साहब ! मैं और मेरी पत्नी रातभर करते हैं गोबर की चौकीदारी… जब मंटूराम ने मुख्यमंत्री को सुनाई आपबीती

1124

सीएम साहब! मैं और मेरी पत्नी रातभर करते हैं गोबर की चौकीदारी… जब मंटूराम ने मुख्यमंत्री को सुनाई आपबीती

बीजापुर @ खबर बस्तर। गोबर की चौकीदारी! जी हां, सुनने में अटपटा जरूर लगेगा लेकिन ये सच है। छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले के कुटरू में रहने वाले किसान मंटू राम कश्यप गोबर की चौकीदारी करते हैं, और ये बात मंटूराम ने स्वयं मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को बताई। मौका था बीजापुर जिले के कुटरू में आयोजित ‘भेंट मुलाकात’ कार्यक्रम का।

मुख्यमंत्री को मंटूराम ने बताया कि मैं रात में टॉर्च लगा कर गोबर की चौकीदारी करता हूं। और इस काम मे मेरी पत्नी भी मेरा साथ देती हैं। उन्होंने बताया कि वे छत्तीसगढ़ सरकार की गोधन न्याय योजना के तहत गोबर बेचते हैं।

यह भी पढ़ें :  दंतेवाड़ा में भी अब संपूर्ण लॉकडाउन, 18 से 27 अप्रैल तक जिले की सीमाएं रहेंगी सील... 10 दिनों तक पूरा जिला कंटेनमेंट जोन घोषित, घरों से निकलने पर भी पाबंदी
– सीएम को अपनी आपबीती सुनाते मंटूराम।

मंटूराम ने बताया कि अब तक उन्होंने लगभग 14 हजार किलो गोबर करीब 28 हजार रु में बेचा है। बकौल मंटूराम पहले गोबर को कोई नहीं पूछता था लेकिन अब हर किसी की नजर गोबर पर लगी रहती है।

कुछ दिन पहले उनके इकठ्ठे किये गोबर को गांव के कुछ लोग उठा ले गए थे। इसके बाद उन्होंने तय किया कि पत्नी के साथ रात में गोबर की निगरानी करेंगे।

– मंटूराम की बातें सुनते मुख्यमंत्री।

पत्नी के साथ शिफ्ट में चौकीदारी

यह भी पढ़ें :  जन अदालत: नक्सलियों ने पिता के सामने ही बेटे की ले ली जान... कई ग्रामीण अभी भी माओवादियों के कब्जे में: सूत्र

मंटूराम गोबर की चौकीदारी रातभर करते हैं। उनके इस काम मे उनकी पत्नी भी साथ देती हैं। वे कहते हैं कि रातभर जागना संभव नहीं है। इसलिए वे और उनकी पत्नी दो शिफ्ट में गोबर की देखरेख करते हैं। रात में कुछ देर वे और उनकी पत्नी टॉर्च लेकर गोबर की निगरानी करते हैं।

आखिर क्यों पड़ी चौकीदारी की जरूरत ?

मंटूराम बताते हैं कि रात में टॉर्च लेकर वे कई बार देखने जाते हैं कि गोबर कोई ले तो नहीं गया। वे कहते हैं कि जब से गोबर की कीमत मिलने लगी है, तब से गोबर सहेजकर रखना पड़ता है। एक दिन इकठ्टा किया हुआ गोबर कुछ लोग चुपचाप उठा ले गए। इसके बाद से गोबर की निगरानी करने लगा।

यह भी पढ़ें :  पुलिस कैम्प के विरोध में लामबंद ग्रामीणों ने किया प्रदर्शन, जवानों पर लगाया मारपीट का आरोप... SP बोले- डरने की जरूरत नहीं, विकास और सुरक्षा के लिए खोला गया कैम्प

मंटुराम कश्यप ने बताया कि उनके पास 15 गाय-भैंसे हैं। अब तक गोधन न्याय योजना से गोबर बेचकर करीब 28 हजार रुपये मिले हैं। उन्होंने बताया कि उनके मकान से पानी टपकता था। जिसे बहुत दिन से रिपेयर कराना चाहते थे।

गोबर बेचकर मिले पैसे से उन्होंने मकान रिपेयर करा लिया है। मकान में प्लास्टर भी करा लिया है। अब छत से पानी टपकने की समस्या भी खत्म हो गयी है।