नक्सल फंडिंग मामला: ED की बड़ी कार्रवाई, 29.75 लाख की प्रॉपर्टी कुर्क

1325

नक्सल फंडिंग मामला: ED की बड़ी कार्रवाई, 29.75 लाख की प्रॉपर्टी कुर्क

रायपुर @ खबर बस्तर। प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने नक्सल फंडिंग के मामले में बड़ी कार्रवाई करते हुए करीब तीस लाख रूपयों की प्रॉपर्टी कुर्क की है। ईडी के रायपुर जोनल ऑफिस की तरफ से 29.75 लाख रुपए की संपत्ति जब्त करने के आदेश जारी किए गए हैं।

ED attaches property worth 29.75 lakhs in Naxal funding case

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा धन शोधन निवारण अधिनियम, 2002 (पीएमएलए) के प्रावधानों के तहत राजनांदगांव जिले में स्थित प्रॉपर्टी कुर्क करने का आदेश जारी किया गया है। ये प्रॉपर्टी कृषि भूमि है, जो नोटबंदी के वक्त नक्सलियों से रकम लेकर खरीदी गई थी।

यह भी पढ़ें :  कोरोना पाॅजीटिव मरीजों के संपर्क में आए लोगों पर भी है नजर, 200 शिक्षकों की तैनाती

बता दें कि प्रापर्टी के मालिक अश्विनी वर्मा और उनके छोटे भाई तमेश वर्मा को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है। खैरागढ़ पुलिस ने 5 मई 2018 को मारुटोला के अश्वनी वर्मा को नक्सलियों को सामान सप्लाई करने के आरोप में पकड़ा था।

पुलिस का आरोप था कि नक्सलियों ने नोटबंदी में अश्वनी को एक करोड़ रुपए के पुराने नोट बदलने के लिए दिए थेे। नक्सलियों से मिले पैसों से अश्वनी वर्मा ने प्रॉपर्टी, सोने-चांदी के जेवरात और गाड़ियां खरीदी है।

यह भी पढ़ें :  अवैध रेत उत्खनन हुआ तो कलेक्टर-SP होंगे जिम्मेदार... CM भूपेश बघेल ने दिए सख्त निर्देश, कहा- माफियाओं के खिलाफ हो कड़ी कार्रवाई

गिरफ्तारी के बाद पुलिस रिमांड में हुई पूछताछ में अश्वनी ने नक्सलियों को 30 लाख रुपए वापस करने की बात कबूली थी। वह नक्सलियों को दैनिक उपयोग की सामग्री लगातार उपलब्ध कराता रहा है। पुलिस ने अश्वनी के प्रॉपर्टी और गाड़ियों का कागजात भी जब्त किया है।

पुलिस के मुताबिक, अश्वनी नक्सलियों के शहरी नेटवर्क के तौर पर काम करता रहा। इस मामले में छत्तीसगढ़ पुलिस के FIR के बाद जांच में ED भी शामिल हुई।

यह भी पढ़ें :  आरक्षक ने बाथरूम में लगा ली फांसी, WhatsApp में लिखा बाय-बाय... और फंदे में झूल गया!