छत्तीसगढ़ के प्रथम मुख्यमंत्री अजीत जोगी का निधन, नारायणा अस्पताल में ली अंतिम सांस…20 दिन से कोमा में थे जोगी, 74 साल की उम्र में दुनिया को कहा अलविदा

25

छत्तीसगढ़ के प्रथम मुख्यमंत्री अजीत जोगी का निधन, नारायणा अस्पताल में ली अंतिम सांस…20 दिन से कोमा में थे जोगी, 74 साल की उम्र में दुनिया को कहा अलविदा

रायपुर @ खबर बस्तर। छत्तीसगढ़ के प्रथम मुख्यमंत्री अजीत जोगी का शुक्रवार की दोपहर निधन हो गया। रायपुर के श्री नारायणा अस्पताल में उन्होंने अंतिम सांसें ली। अस्पताल में करीब 20 दिन जिंदगी और मौत से जूझने के बाद उन्होंने इस दुनिया को अलविदा कर दिया।

 

शुक्रवार को करीब एक बजे जोगी को कार्डियक अरेस्ट आया और इसके बाद से उनकी स्थिति कंट्रोल में नहीं आ सकी। हालांकि, डाक्टरों की टीम लगातार अजीत जोगी की गहन निगरानी में लगी थी लेकिन उन्हें नहीं बचाया जा सका। बता दें कि बुधवार की देर रात भी जोगी को कार्डियक अरेस्ट आया था।

यह भी पढ़ें :  लॉकडाउन में तेलंगाना से पैदल चलकर छग पहुंचे 170 मजदूर... सभी को होम क्वॉरंटीन में रखा गया, स्वास्थ्य विभाग कर रही निगरानी

Read More:

गौरतलब है कि बीते 9 मई को पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया था। सुबह मार्निंग वॉक के दौरान गंगा इमली का बीज उनकी सांस नली में फंस गया था। इसके चलते उन्हें पहले रिस्परेट्री और बाद में कार्डियक अरेस्ट आ गया।

 

जोगी को राजधानी के नारायणा अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां पिछले 20 दिनों से उनका इलाज चल रहा था। इस दौरान वो कोमा में बने रहे, हालांकि उनके शरीर के दूसरे अंग काम कर रहे थे।

Read More:

 

यह भी पढ़ें :  सुकमा के सौन्दर्य में लग रहे चार चांद, 3000 फूल-पौधों से सजेगा गौरवपथ… जनप्रतिनिधियों व अफसरों ने किया पौधरोपण

इसी बीच पिछले बुधवार को उन्हें फिर से कार्डियक अरेस्ट आ गया, लेकिन तब उन्होंने रिकवर कर लिया था। लेकिन 48 घंटे के भीतर दूसरी बार आये कार्डियक अरेस्ट के बाद उनकी तबीयत बिगड़ती चली गई और वे जिंदगी की जंग हार गए।

Read More:

जोगी के निधन की जानकारी उनके बेटे अमित जोगी ने ट्वीट कर दी। उन्होंने लिखा, ’20 वर्षीय युवा छत्तीसगढ़ राज्य के सिर से आज उसके पिता का साया उठ गया। केवल मैंने ही नहीं बल्कि छत्तीसगढ़ ने अपना पिता खोया है। अजीत जोगी ढाई करोड़ लोगों के अपने परिवार को छोड़ कर ईश्वर के पास चले गए। गांव-गरीब का सहारा, छत्तीसगढ़ का दुलारा, हमसे बहुत दूर चला गया।’

 

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…
यह भी पढ़ें :  कोरोना निकला 'निगेटिव' और सोच बनी 'पाॅजीटिव', 5 लाख के इनामी समेत दो माओवादियों ने किया सरेण्डर...माओवादियों ने जिसे कोरोना के शक में छोड़ा, उसने त्यागा हिंसा का रास्ता

ख़बर बस्तर के व्हॉट्सएप्प ग्रुप में जुड़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए….