समूह की महिलाएं हो रही आत्मनिर्भर, जनपद CEO की पहल रंग ला रही

46

समूह की महिलाएं हो रही आत्मनिर्भर, जनपद CEO की पहल रंग ला रही

मो. इरशाद खान @ भोपालपटनम। जनपद पंचायत भोपालपटनम अंतर्गत छ.ग. राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन “बिहान” योजना के तहत् स्व सहायता समूहों के द्वारा आजीविका गतिविधि के रूप में सीमेंट ईंट व लाल ईंट निर्माण‌ किया जा रहा है। इस योजना से जुड़कर बहुत सी महिलाएं स्व रोजगार कर आय प्राप्त कर रही है।

योजना के तहत प्राप्त निधि एवं बैंक लिंकेज राशि के माध्यम से किराना दुकान, राईस मिल, फैंसी स्टोर, मोबाईल शाॅप, चिकन दुकान, कपड़ा दुकान, होटल, कैंटीन अन्य गतिविधियों को प्रारंभ कर अपनी आजीविका को एक नया आयाम दे रहे हैं।

यह भी पढ़ें :  नक्सलियों ने किसानों के ट्रेक्टर परेड का किया समर्थन, हिंसक वारदातों के लिए केंद्र सरकार को ठहराया ज़िम्मेदार

नए सीईओ जनपद पंचायत भोपालपटनम ओम्कारेश्वर सिंह के आने के बाद स्व सहायता समूह के आजीविका गतिविधि में तेजी आई है। उनके मार्गदर्शन एवं निदेशानुसार सभी ग्राम पंचायतों में स्व सहायता समूहों के द्वारा सीमेंट ब्रिक्स (ईंट) बनाया जा रहा है।

सीईओ जनपद ओम्कारेश्वर सिंह का कहना है कि स्व सहायता समूह के द्वारा जो सीमेंट ईंट बनाया जा रहा है पंचायतों द्वारा उसे क्रय कर सरकारी कार्य में उपयोग किया जायेगा, इनके एवज में समूह के सदस्यों को प्रति ईंट 20-25 रूपए प्राप्त होगा। इस प्रकार से समूह की आजीविका एवं आय बढ़ेगी।

यह भी पढ़ें :  शबरी नदी के पुल से टकराकर नाव पलटी, 3 लोग बाढ़ में बहे

इसी प्रकार 3 पंचायत अंगमपल्ली, गोरला एवं तमलापल्ली में मुर्गी फार्म बनाया गया जहां अंडा उत्पादन किया जाता है इन अंडों को पोषण आहार के रूप में महिला बाल विकास विभाग के द्वारा उन स्व सहायता समूहों से क्रय कर लिया जाता है जो इन केन्द्रों में अंडा उत्पादन कर रहे हैं।

जनपद पंचायत भोपालपटनम में कुल सक्रिय 17 गौठान है जिनमें वर्मी कम्पोस्ट खाद तैयार किया जा रहा है अभी तक कुल 375 कि्वंटल वर्मी खाद भी स्व सहायता समूहों के द्वारा ही बनाया जा रहा है। सीईओ जनपद ओम्कारेश्वर सिंह द्वारा प्रतिदिन विकासखंड के ग्राम पंचायतों एवं गौठान का दौरा किया जाता है।

यह भी पढ़ें :  पुल से निकल आई हैं लोहे की छड़ें, कंस्ट्रक्शन कंपनी की लापरवाही दे रही हादसे को दावत

Read More:

 

गौठानो में समूह के सदस्यों से मिलकर उन्हें अधिक से अधिक आजीविका गतिविधि से जुड़ने के बारे में विस्तार से बताया जाता है। इस प्रकार की पहल से योजना को सफल बनाने एवं अत्यन्त गरीब तबके की महिलाएं जो स्व सहायता समूह से जुड़ी है उनकी आजीविका को बढ़ाने में मदद मिलेगी।