छिंदनार पुल से खुलेंगे विकास के द्वार: CM भूपेश बघेल

1097

छिंदनार पुल से खुलेंगे विकास के द्वार, दुर्गम क्षेत्र के ग्रामीणों की राहें होंगी आसान: CM भूपेश बघेल 

दंतेवाड़ा @ खबर बस्तर। छिंदनार में बना पुल इस पूरे अंचल के लिए विकास का द्वार सिद्ध होगा। इस पुल के बनने से इंद्रावती नदी के दोनों तरफ के गांव जुड़ेंगे, बल्कि इससे लोगों तक शासन की विभिन्न जनकल्याणकारी सुविधाएं भी आसानी से पहुंचेगी।

मंगलवार को छिंदनार में इन्द्रावती नदी पर नवनिर्मित पुल का लोकार्पण करते यह बातें मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कही। उन्होंने इस मौके पर 47 करोड़ की लागत से बने छिंदनार ब्रिज के अलावा दंतेवाड़ा जिलेवासियों को 251 करोड़ के कुल 814 विकास कार्यों की सौगात दी।

सीएम बघेल ने अपने संबोधन में कहा कि छिंदनार में बना यह पुल साधारण पुल नहीं है, यह दंतेवाड़ा, बीजापुर, नारायणपुर, बस्तर जिले को और बस्तर से अबूझमाड़ को जोड़ने वाला पुल है। पहले पढ़ाई के लिए बच्चों को नाव से नदी पारकर इस पार आना पड़ता था। आपातकालीन स्थिति में इलाज के लिए ग्रामीणों को बहुत दिक्कत होती थी। अब 108 और 112 एंबुलेंस की भी इन गांवों तक पहुंच होगी।

यह भी पढ़ें :  जेल में बंद निर्दोष लोगों की रिहाई के लिए सड़क की लड़ाई लड़ेगी जेसीसी... पंचायत चुनाव से पहले सक्रिय हुए पार्टी पदाधिकारी
– छिंदनार में कुछ इस अंदाज में दिखे CM बघेल

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह पुल सही मायने में विकास का द्वार है। इसके जरिये अब गांव में आंगनबाड़ी, स्कूल भवन निर्माण, विद्युतीकरण जैसे कार्य तेजी से होने लगे है। प्रशासन के लोग इन गांवों में पहुंच रहे हैं, जिससे अबूझमाड़ में बदलाव की शुरुआत हो चुकी है। दुर्गम क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को शासन की योजनाओं का लाभ मिलने लगा है।

सरपंच के नाम पर पुल का नामकरण

यह भी पढ़ें :  पुलिस-नक्सली मुठभेड़ में महिला माओवादी ढेर…पुलिस का दावा, 4-5 नक्सलियों को लगी गोली

सीएम भूपेश बघेल ने छिंदनार पुल के निर्माण में बलिदान देने वाले पाहुरनार के पूर्व सरपंच स्वर्गीय पोसेराम कश्यप के नाम पर पुल के नामकरण की घोषणा की। उन्होंने छिंदनार पुल के निर्माण में शहीद हुए प्रधान आरक्षक स्वर्गीय लक्ष्मीकांत द्विवेदी की शहादत को भी नमन किया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस पुल का निर्माण आसान काम नहीं था। इसके लिए कई सुरक्षा जवानों ने दिन-रात तैनात रह कर सुरक्षा का काम किया है। जवानों ने निर्माण कार्य में प्राणों की बाजी लगाकर सहयोग दिया। इन जिलों में लगातार रोजगार सृजन के लिए काम किया जा रहा है। आज तक जिन मूलभूत सुविधाओं से दुर्गम क्षेत्रों में रहने वाले लोग दूर थे, अब उन्हें सभी सुविधाएं उपलब्ध कराएंगे।

यह भी पढ़ें :  व्हालीबाॅल स्पर्धाः पामेड़ की खिताबी जीत‚ गंगालूर को दी मात, बीएसए तीसरे क्रम पर

सीएम ने दी ये सौगातें

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने नदी के उस पार पंचायत विकास के लिए 10 करोड़ रूपए की राशि, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र कुआकोण्डा में नवीन भवन के निर्माण के लिए 2 करोड़ 50 लाख रूपए, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र कटेकल्याण के र्जीणोंद्धार के लिए 2 करोड़ रूपए, स्वरोजगार के लिए 5 करोड़ मां दंतेश्वरी मंदिर परिसर में चंदखुरी कौशल्या माता मंदिर की तर्ज पर ज्योति कलश कक्ष के निर्माण की घोषणा की।