जन अदालत: नक्सलियों ने पिता के सामने ही बेटे की ले ली जान… कई ग्रामीण अभी भी माओवादियों के कब्जे में: सूत्र

38

नक्सलियों ने पिता के सामने ही बेटे की ले ली जान… कई ग्रामीण अभी भी माओवादियों के कब्जे में: सूत्र

पंकज दाऊद @ बीजापुर। नक्सलियों ने शुक्रवार को गंगालूर थाना क्षेत्र के पुसनार गांव के समीप हिरोली इलाके में कंगारू कोर्ट लगाकर चार लोगों को मार डाला। इनमेें से सन्नू पूनेम की रस्सी से गला घोंटकर हत्या उसके पिता लांचा के सामने कर दी गई।

सूत्रों की मानें तो शुक्रवार की सुबह बैलाडीला पहाड़ी के नीचे हिरोली इलाके में नक्सलियों ने जनअदालत लगाई थी और इसमें मेटापाल व पुसनार गांव के लोगो को बुलाया गया था। जनअदालत से नक्सली करीब 20 लोगों को उठाकर ले गए थे। इसमें लांचा और उसके बेटे सन्नू पूनेम भी शामिल थे।

Read More: नक्सलियों ने पटवारी की बेदम पिटाई की, पर्चे में लिखा— पटवारी और रेंजर को गांव में आने से मार भगाओ !

यह भी पढ़ें :  यहां हनी खरीदने लगेगी पूरी ‘मनी’ ! सरकारी मेडिकल स्टोर में ऐलोपेथिक दवा पर मिलेगी 50 से 70 फीसदी की छूट

नक्सलियों ने सभी के सिर को कपड़े से ढंक दिया था और उनके हाथ पीछे की ओर बांध दिए थे। पिता-पुत्र दोनों को वे ले गए लेकिन सन्नू पूनेम की रस्सी से गला दबाकर हत्या कर दी। ये वारदात नक्सलियों ने उसके पिता लांचा के सामने ही की।

हालांकि, माओवादियों ने उसके पिता को तो छोड़ दिया लेकिन रस्सी बांधने के निशान अभी भी उसके हाथ में हैं। गंगालूर में सन्नू के शव का पीएम किया गया। इसके बाद पुलिस ने शव को उसके पिता लांचा के सुपुर्द कर दिया। बताया जा रहा है कि अभी भी करीब 16 लोग नक्सलियों के कब्जे में हैं।

Read More: सुकमा में तैनात CRPF जवान की कोरोना से मौत, रायपुर AIIMS में इलाज के दौरान तोड़ा दम

यह भी पढ़ें :  तेलंगाना के नक्सलियों ने बस्तर के युवाओं को अंधे युद्ध में झोंक दिया… SP कमलोचन कश्यप बोले, सुकून की जिंदगी जी रहे माइंड गेम खेलने वाले माओवादी लीडर

सूत्रों के मुताबिक, जन अदालत में करीब 70 से 80 नक्सलियों की मौजूदगी बात कही जा रही है। बताया गया है कि सभी नक्सली सशस्त्र थे और इनमें करीब एक दर्जन युवतियां भी शामिल थीं। ये सभी आधुनिक हथियारों से लैस थे।

पूरा गांव खौफजदा

पुसनार और मेटापाल गांव में नक्सली वारदात के बाद से खौफ पसरा है। लोग इस वारदात के बारे में कुछ भी नहीं बोल रहे हैं। सुबह गंगालूर से पुलिस फोर्स पुसनार गांव की ओर शव लाने निकली थी। बताते हैं कि ग्रामीण 3 शवों को ले जाने देेने से इंकार कर रहे हैं और इसे सामान्य मौत बता रहे हैं।

Read More: सरंपच के दामाद समेत 4 लोगों की हत्या… 3 ग्रामीणों का सुराग नहीं, एक का शव लेकर आई पुलिस… 3 लाशों को सौंपने से ग्रामीणों ने किया इंकार

यह भी पढ़ें :  फर्नीचर कारोबारी को आया फोन–'कमाण्डर बात नहीं करता है, सीधे काट डालता है'... नक्सलियों के नाम पर प्रोटेक्शन मनी की डिमाण्ड, पुलिस ने कहा...

समझा जाता है कि नक्सली डर से वे ऐसा कह रहे हैं। बताया गया है कि पुसनार रोड को नक्सलियों ने कई स्थानों पर काट दिया था। इससे बाइक को भी ले जाने में परेशानी होती है। गंगालूर से 10 किमी दूर पुसनार वैसे भी मूलभूत सुविधाओं से वंचित गांव है।

इधर, पुलिस ने ग्रामीणों की हत्या और अपहरण के मामले में केस दर्ज कर लिया है। रविवार को पुलिस की टीम गांव पहुंची और ग्रामीणों से चर्चा कर घटना से जुड़ी जानकारी ली। एसपी कमलोचन कश्यप ने ग्रामीणों से पुलिस का सहयोग करने और शिकायत कर जानकारी देने की अपील की है।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…