एक लेडी कोरोना योद्धा जो पहुंच गईं माड़ बॉर्डर… ताकीलोड़ पहुंच मेडिकल टीम ने 200 लोगों का किया परीक्षण

49

एक लेडी कोरोना योद्धा जो पहुंच गईं माड़ बॉर्डर… ताकीलोड़ पहुंच मेडिकल टीम ने 200 लोगों का किया परीक्षण

पंकज दाऊद @ बीजापुर। भैरमगढ़ ब्लॉक के अबुझमाड़ बॉर्डर में बसे अंदरूनी गांव ताकीलोड़ में मंगलवार को मेडिकल टीम इ्रंद्रावती नदी को पार कर पथरीले रास्तों के जरिए पहुंची और 200 मरीजों का परीक्षण किया गया। इस गांव में 60 लोगों को कोरोना की वैक्सिन लगाई गई।

– इंद्रावती नदी पार करती मेडिकल टीम

इस टीम में भैरमगढ़ हॉस्पिटल के डॉ सत्यप्रकाश खरे, डॉ रमेश तिग्गा, बीई बलराम कोर्राम, रूरल हेल्थ ऑर्गेनाइजर रानी मण्डावी, महेन्द्र कुरसम, ताकीलोड़ इलाके के शिक्षक, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं मितानिनें शामिल थे।

Read More:

 

यह भी पढ़ें :  सुकमा में कोरोना विस्फोट: एक साथ मिले 18 पॉजिटिव मरीज, मचा हड़कंप

जब मेडिकल टीम 22 किमी दूर ताकीलोड़ के लिए रवाना हो रही थीं तो उनके साथ आठ माह पहले भैरमगढ़ में पदस्थ हुईं डॉ सरिता मनहर भी हो लीं। चंदूलाल मेडिकल कॉलेज दुर्ग से एमबीबीएस एवं डेढ़ बरस तक रायपुर एम्स के मेडिकल विभाग में सेवा दे चुकीं डॉ सरिता को इस गांव में जाने में कोई झिझक थी और ना कोई भय।

– महिला कोरोना वारियर डॉ सरिता मनहर

वे पहली बार ऐसे अंदरूनी गांव में जाने के लिए निकलीं। मंगलवार की सुबह दस बजे बाइक से टीम रवाना हुई। रास्ते पथरीले थे और खेतों से भी गुजरना था। अपनी बाइक को नाव में डालकर इंद्रावती नदी पार करने के बाद दोपहर करीब साढ़े बारह बजे ये टीम ताकीलोड़ पहुंची। महिला चिकित्सक के होने से गर्भवती महिलाओं को सुविधा हुई। उन्हें दवाएं दी गईं।

यह भी पढ़ें :  एक वारंटी नक्सली गिरफ्तार, CRPF 219 बटालियन की कार्रवाई

मलेरिया के भी मरीज मिले

इस गांव में दो सौ लोगों का परीक्षण किया गया। इनमें पांच मलेरिया के मरीज थे जबकि दो एनेमिया के मरीज थे। तीन गर्भवती महिलाएं थीं। इनके अलावा दो दस्त के मरीज मिले। गांव में बच्चे और बड़े खुजली के शिकार पाए गए।

– ताकीलोड़ में मरीज का इलाज करती मेडिकल टीम

साठ लोगों का वैक्सिनेशन

डॉ रमेष तिग्गा, डॉ सत्यप्रकाश खरे एवं डॉ सरिता मनहर की निगरानी में साठ लोगों को कोरोना का वैक्सिनेशन किया गया। आधे घंटे तक ये भी गौर किया गया कि इससे लोगों को तकलीफ तो नहीं हो रही है।

यह भी पढ़ें :  भूपेश सरकार को बदनाम करने केन्द्र की अडंगेबाजी… कांग्रेसी बोले 'बारदाने नहीं भेजे, 900 करोड़ दिए जाने की बात झूठी'

Read More:

आष्वस्त होने के बाद मेडिकल टीम जब गांव से जाने लगी तो मूसलाधार बारिश शुरू हो गई। ये बारिश दो घंटे तक होती रही। इसके बाद मेडिकल टीम वहां से फुण्डरी के रास्ते भैरमगढ़ रात दस बजे पहुंची।